" /> ‘हेरीटेज ट्री’ योजना से होगा वृक्षों का संरक्षण!

‘हेरीटेज ट्री’ योजना से होगा वृक्षों का संरक्षण!

पुराने वृक्षों को मिलेगा विरासत का दर्जा
राज्य मंत्रिमंडल का निर्णय
राज्य के शहरी इलाकों में ५० वर्ष से पुराने हो चुके वृक्षों को विरासत का दर्जा मिलेगा। इसके लिए ‘हेरीटेज ट्री’ नामक संकल्पना पर अमल किया जाएगा। इसके लिए एक कार्य योजना बनाकर उन वृक्षों का संरक्षण और संवर्धन किया जाएगा। इस आशय का निर्णय कल मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे की अध्यक्षता में हुई वैâबिनेट की बैठक में लिया गया।
‘हेरीटेज ट्री’ संकल्पना को साकार करने के लिए एक कार्य योजना बनाई जाएगी। इसके लिए महाराष्ट्र शहरी क्षेत्र वृक्ष संरक्षण और संवर्धन अधिनियम में संशोधन किया जाएगा। इन सुधारों में ‘हेरीटेज ट्री’ की अवधारणा और उनके संरक्षण के लिए कार्य योजना का कार्यान्वयन, वृक्ष की आयु, वृक्षारोपण, बड़े पैमाने पर वृक्षों की कटाई, महाराष्ट्र राज्य वृक्ष प्राधिकरण की स्थापना, स्थानीय वृक्ष प्राधिकरण का गठन, कर्तव्यों का निर्धारण, कई प्रजातियों के वृक्षों का समावेश है। इनमें वृक्षारोपण के लिए सामूहिक भूमि का आवंटन, वृक्षों का प्रतिरोपण, वृक्ष संरक्षण के वैकल्पिक विकल्पों की खोज, वृक्ष उपकर और दंड का प्रावधान शामिल है।
राज्य मंत्रिमंडल ने प्रदेश के तटीय क्षेत्रों के मैंग्रोव्ज वनों के संरक्षण के लिए ग्रीन क्लाइमेट पंâड की सहायता से परियोजना शुरू करने का भी पैâसला किया है। दुय्यम न्यायालय, मुंबई नगर दिवानी व सत्र न्यायालय में जिला सरकारी वकील, सहायक सरकारी वकिलों की नियुक्ति करने का निर्णय लिया गया है। इसके अलावा डॉक्टर पंजाब राव देशमुख योजना के तहत फसल कर्ज का नियमित भुगतान करनेवाले किसानों को ३ लाख रुपए तक के कर्ज पर ब्याज न लेने का पैâसला वैâबिनेट ने लिया है।