मुख्यपृष्ठनए समाचार`केंद्र' की महंगाई ने बचपन भी ‘मार’ डाला! हताश बच्ची की पीएम...

`केंद्र’ की महंगाई ने बचपन भी ‘मार’ डाला! हताश बच्ची की पीएम से मार्मिक अपील

  • `मोदी जी! महंगाई कम करो!’
  • आपने मेरी पेंसिल-रबर, मैगी तक महंगी कर दी’
    ‘मांगो तो मम्मी मारती हैं’

सामना संवाददाता / कन्नौज
केंद्र की सत्ता हासिल करने के बाद नरेंद्र मोदी के नेतृत्ववाली भाजपाई सरकार वो सब काम कर रही है, जिसका सत्तारूढ़ होने से पहले वो विरोध किया करती थी। नतीजतन देश में महंगाई चरम पर पहुंच गई। नाकाम नोटबंदी के बाद जीएसटी की ‘फ्लॉप’ की करप्रणाली लागू करने के दौरान जिन वस्तुओं एवं सेवाओं को मोदी सरकार ने कर के दायरे से बाहर रखने का वादा किया था, आज उन वस्तुओं पर भी टैक्स लगा दिया गया है। इसकी वजह से कोरोना काल से पहले ही बेहाल हो चुके लोगों का जीना मुहाल हो गया है। पिछले महीने की १८ जुलाई से लागू की गई जीएसटी की नई दरें लोगों को पेट काटने को मजबूर कर ही रही हैं, बच्चों का बचपन भी इसकी वजह से खत्म हो गया है। इससे आहत होकर पहली कक्षा में पढ़नेवाली एक छ: साल की मासूम बच्ची ने पीएम मोदी को पत्र लिखकर बेहद मार्मिक अपील की है। मासूम का उक्त पत्र आज पूरे देश में चर्चा का विषय बन गया है। बढ़ती महंगाई को लेकर उत्तर प्रदेश के कन्नौज की रहने वाली ५ साल की मासूम कृति दुबे ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को लिखी चिट्ठी में पेंसिल, रबड़ और मैगी के बढ़ते दाम की शिकायत की है।
बता दें कि कृति ने अपनी चिट्ठी में लिखा है, ‘प्रधानमंत्री जी आपने महंगाई बहुत ज्यादा कर दी है। यहां तक कि मेरी पेंसिल और रबड़ भी महंगी कर दी और मैगी के दाम भी बढ़ा दिए हैं। अब पेंसिल मांगने पर मेरी मां मुझे मारती है। मैं क्या करूं? दूसरे बच्चे मेरी पेंसिल चोरी कर लेते हैं। कृति ने आगे लिखा है कि जब वह मैगी खरीदने गई तो दुकानदार ने दो रुपए कम होने पर उसे वापस कर दिया। बच्ची ने बताया कि दुकान वाले अंकल बोले कि मैगी महंगी हो गई है दो रुपए और लेकर आओ तब लेना।’

पीएम को बताई मन की बात
रेडियो पर पूरे देश से ‘मन की बात’ कहनेवाले पीएम मोदी को छात्रा द्वारा लिखी गई उक्त चिट्ठी सोशल मीडिया पर खूब वायरल हो रही है। गौरतलब हो कि बच्ची के पिता विशाल दुबे पेशे से वकील हैं। उनका कहना है कि यह पत्र उनके बेटी की ‘मन की बात’ है। वह हाल ही में उस समय नाराज हो गई, जब उसकी मां ने उसे स्कूल में पेंसिल खो जाने पर डांटा था। कृति की मां आरती का कहना है कि बेटी ने अपनी स्वेच्छा से प्रधानमंत्री को संबोधित करते हुए पत्र लिखा है। साथ ही अपने पापा पर दबाव बनाकर पत्र को डाक के माध्यम से प्रधानमंत्री मोदी को भेजा है।

अन्य समाचार