मुख्यपृष्ठनए समाचारकेंद्र सरकार की मंशा जाहिर... गार्ड बनेंगे `अग्निवीर'!

केंद्र सरकार की मंशा जाहिर… गार्ड बनेंगे `अग्निवीर’!

  • कैलाश  विजयवर्गीय ने बताई सच्चाई
  • रिटायरमेंट के बाद भाजपा ऑफिसों में होंगे तैनात

सामना संवाददाता / भोपाल
केंद्र सरकार द्वारा `अग्निपथ’ योजना की घोषणा के बाद समूचा देश जल रहा है। लगभग संपूर्ण राज्यों में युवाओं में रोष देखा जा रहा है। जगह-जगह विरोध प्रदर्शन, फुकम-फाक जारी है। बेरोजगार युवाओं में असमंजस की स्थिति बनी हुई है कि चार साल के बाद क्या होगा? इस योजना के पीछे भाजपा सरकार की मंशा क्या है? इसी बीच भाजपा के ही राष्ट्रीय महासचिव कैलाश  विजयवर्गीय ने सरकार की मंशा को जाहिर कर दिया है। उन्होंने साफतौर पर कहा है कि `अग्निपथ योजना’ से निकले `अग्निवीरों’ को गार्ड बनाया जाएगा। ये युवा भाजपा ऑफिसों में तैनात होंगे और भाजपाइयों की सुरक्षा करेंगे।
बता दें कि विजयवर्गीय ने कल भाजपा कार्यालय में संवाददाता सम्मेलन आयोजित किया था। इस दौरान उन्होंने कई विषयों को लेकर बात की। `अग्निपथ योजना’ को लेकर सवाल पूछे जाने पर इसके बारे में बताया। इस दौरान विजयवर्गीय ने कहा कि `अग्निपथ योजना’ से निकले `अग्निवीरों’ को भाजपा कार्यालयों में सुरक्षागार्ड की नौकरी में प्राथमिकता दी जाएगी। उन्होंने कहा कि `मुझे इस भाजपा ऑफिस में अगर सुरक्षा गार्ड रखना हो तो मैं `अग्निवीर’ को प्राथिमकता दूंगा।’
भाजपा नेताओं का कोर्ट मार्शल करना चाहिए
विजयवर्गीय के इस बयान के बाद बवाल मच गया। सोशल मीडिया पर उनकी बात लोगों को रास नहीं आई और वो भड़क गए। एक का कहना था कि जनरल वीके सिंह जो ३५-४० साल नौकरी करने के बाद ६ महीना बढ़ाने के लिए कोर्ट गए थे, वो भी चार साल की `अग्निवीर’ नौकरी को बढ़िया बता रहे हैं। आठ साल से खुद सांसद भी हैं। आर्मी और सांसदी, दोनों की पेंशन पाएंगे। लेकिन बाकी युवाओं के लिए एक नकली नौकरी की वकालत करेंगे। एक ने लिखा कि विजयवर्गीय अपने बेटे को क्यों नहीं रख लेते भाजपा कार्यालय में सिक्योरिटी? एक अन्य शख्स का कहना था कि सेना को भाजपा नेताओं का कोर्ट मार्शल करना चाहिए।

अन्य समाचार