मुख्यपृष्ठनए समाचारभायंदर के जैसल पार्क चौपाटी पर प्रस्तावित टर्मिनल का मुद्दा गरमाया! ...स्थानांतरित करने...

भायंदर के जैसल पार्क चौपाटी पर प्रस्तावित टर्मिनल का मुद्दा गरमाया! …स्थानांतरित करने की उठ रही मांग

 सीएम सहित अन्य विभागों को लिखा गया पत्र

सामना संवाददाता / भायंदर
शहर में जल परिवहन सेवा शुरू करने की कवायद जोर-शोर से शुरू हो गई है, जिससे भविष्य में शहरवासियों को ट्रैफिक जाम से निजात मिलने की उम्मीद है। पिछले दिनों अपने निरीक्षण दौरे के दौरान  मनपा आयुक्त एवं प्रशासक संजय काटकर से इस प्रोजेक्ट से संबंधित निर्माण कार्य को शीघ्र पूरा करने का अनुरोध किया गया था। इस जल परिवहन सेवा में सबसे बड़ा पेंच अब जैसल पार्क चौपाटी पर इस सेवा के लिए बनाए जाने वाले जेट्टी प्लेटफार्म को लेकर फंस गया है। अब इसे स्थानांतरित करने की मांग उठ रही है। इसके लिए कई संस्थाओं ने सीएम सहित अन्य विभागों को पत्र लिखा है।

तय स्थान से कुछ दूरी पर बने जेट्टी
प्रस्तावित नई विकास नियंत्रण नियमावली (डीपी प्लान) में जैसल पार्क चौपाटी (आरक्षण क्रमांक ८१) को जल परिवहन स्टेशन (जेट्टी) के रूप में आरक्षित किया गया है, जिसका न सिर्फ स्थानीय नागरिकों, अपितु तमाम जनप्रतिनिधियों और शहरवासियों तथा सामाजिक संगठनों ने विरोध करना शुरू कर दिया है। इस क्षेत्र में जीवदया एवं तमाम सामाजिक कार्यों को अंजाम देने वाली संस्था जैसल पार्क चौपाटी कल्याण समिति ने महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे, नगर विकास विभाग के प्रधान सचिव एवं मीरा-भायंदर महानगरपालिका के आयुक्त एवं प्रशासक संजय काटकर को पत्र लिखकर सामाजिक, धार्मिक एवं सांस्कृतिक आयोजनों के प्रमुख केंद्र जैसल पार्क चौपाटी से इस प्रस्तावित जल परिवहन सेवा के स्टेशन को कुछ और दूरी पर स्थानांतरित करने की मांग की है।
नष्ट हो सकती है जैसल पार्क की खूबसूरती 
जैसल पार्क चौपाटी कल्याण समिति के महासचिव डॉ नरेंद्र गुप्ता ने इस बारे में बताया कि हम आपके संज्ञान में लाना चाहते हैं कि जैसल पार्क चौपाटी न सिर्फ स्थानीय नागरिकों, अपितु समूचे मीरा-भायंदर के लोगों के लिए एकमात्र जीवनदायक स्थल है। जहां मीरा -भायंदर के नागरिक, बच्चे, महिलाएं, बुजुर्ग आदि सुबह- शाम खाड़ी के किनारे स्वच्छ व खुली हवा में टहलने के लिए आते हैं। यहीं पर बच्चों के खेलने के लिए मैदान हैं। यहीं पर अनेक सामाजिक, धार्मिक, सांस्कृतिक व साहित्यिक कार्यक्रमों का आयोजन होता है। सरल शब्दों में जैसल पार्क चौपाटी एक ऐसा स्थल है, जहां पर यहां के लोगों की जिंदगी सांस लेती है। जिसे यहां के लोग किसी कीमत पर खोना नहीं चाहते।
जेट्टी के लिए आरक्षित है जगह 
संस्था ने अपने पत्र में कहा है कि मीरा-भायंदर से जल-परिवहन प्रारंभ करने की महाराष्ट्र सरकार की यह योजना सराहनीय है। इसके लिए हम आपको धन्यवाद ज्ञापित करते हैं। लेकिन मीरा-भायंदर के संशोधित डीपी प्लान से यह ज्ञात होता है कि इसमें जल-परिवहन टर्मिनल को (आरक्षण क्रमांक ८१) जैसल पार्क चौपाटी पर बनाया जाना प्रस्तावित है।

अन्य समाचार