मुख्यपृष्ठनए समाचारसफेदी की ‘कमकार': काली है, दिलवाली है!  सफेद कारों की चाहत घटी

सफेदी की ‘कमकार’: काली है, दिलवाली है!  सफेद कारों की चाहत घटी

  •  लोगों को भा रही काली कारें

सामना संवाददाता / मुंबई
हर व्यक्ति की चाहत होती है कि उसके पास भी चमचमाती कार हो। गाड़ी खरीदने की बात हो तो उसके रंग को लेकर विशेष चर्चा होती है। गाड़ी के रंग को लेकर शुभ-अशुभ का भी गुणा-गणित लगाया जाता है। सफेद कलर की गाड़ियां ज्यादातर लोगों की पहली पसंद होती हैं। लेकिन अब यह पैमाना बदलता नजर आ रहा है। सफेद कारें अब कम होती जा रही हैं और उसकी जगह काली कारें लोगों की दिलवाली बनती जा रही हैं। हिंदुस्थान में काले रंग की कारों की लोकप्रियता २०२० के मुकाबले ७ प्रतिशत बढ़ी है, जबकि सफेद कारों की लोकप्रियता में ३ फीसदी की गिरावट आई है।
वर्ष २०१९ से २०२१ के ट्रेंड की तुलना करें तो एशिया पैसेफिक में सबसे लोकप्रिय एसयूवी सेगमेंट में काले रंग का चलन सबसे तेजी से बढ़ा है। इस क्षेत्र में एसयूवी बॉडी टाइप की गाड़ियां सबकॉम्पैक्ट से लेकर लार्ज सेक्शन तक सभी में आती हैं। सपेâद, ब्लैक, ग्रे और सिल्वर यानी एक्रोमैटिक रंगों को छोड़ दें तो पूरी दुनिया में गाड़ियों में आसमानी रंग तेजी से लोकप्रिय हो रहा है। हिंदुस्थान में आज भी सबसे ज्यादा गाड़ियां सफेद रंग की हैं। वर्ष २०२१ में भी दुनियाभर में बनी सभी गाड़ियों में ७७ फीसदी एक्रोमैटिक थीं। एक्रोमैटिक रंगों में सफेद रंग ज्यादा लोकप्रिय है। लेकिन काला रंग बढ़त बना रहा है।
बड़ी गाड़ियां काले कलर की
दुनिया में गाड़ियों के कलर्स के सबसे ज्यादा ऑप्शन एशिया पैसेफिक क्षेत्र में ही मिलते हैं। यहां खास ट्रेंड यह भी है कि गाड़ी जितनी बड़ी होती जाती है, रंग में काले की लोकप्रियता बढ़ती जाती है। लार्ज सेगमेंट की गाड़ियों में ४१ फीसदी काले रंग की हैं। इस क्षेत्र में कॉम्पैक्ट गाड़ियां सबसे लोकप्रिय हैं। इस सेगमेंट में भी ग्रे और ब्लैक की लोकप्रियता पिछले वर्ष से बढ़ी है।
हरे रंग की भी बढ़ी मांग
हिंदुस्थान में गाड़ियों के रंगों के मामले में काले रंग की लोकप्रियता साल २०२० के मुकाबले ७ प्रतिशत बढ़ी है। सपेâद गाड़ियां ज्यादा हैं लेकिन वर्ष २०२० के मुकाबले सफेद रंग की लोकप्रियता ३ प्रतिशत घटी है। पूरी दुनिया से अलग ट्रेंड ग्रीन कलर ने दिखाया है। खासतौर पर एसयूवी सेगमेंट में वर्ष २०२० में हरे रंग की लोकप्रियता हिंदुस्थान में केवल १ फीसदी थी। वर्ष २०२१ में इसकी मांग बढ़कर ३ फीसदी हो गई है।
अमेरिका और कनाडा में काली कारें सबसे ज्यादा
उत्तरी अमेरिका और कनाडा में काली कारों की मांग दुनियाभर में सबसे ज्यादा है। यहां क्रोमैटिक कलर्स के ऑप्शंस सबसे कम हैं। यूरोप, मिडिल ईस्ट व अफ्रीका क्षेत्र में ब्लू कलर की लोकप्रियता सबसे तेजी से बढ़ी है। यहां बड़ी गाड़ियों में नीले रंग की लोकप्रियता ज्यादा है। इस क्षेत्र में काले रंग की लोकप्रियता बाकी दुनिया से कम है।

अन्य समाचार