मुख्यपृष्ठसमाचारहॉस्टल में पढ़ाई न हो खराब इसलिए नर्सिंग छात्रा ने कबाड़ में...

हॉस्टल में पढ़ाई न हो खराब इसलिए नर्सिंग छात्रा ने कबाड़ में फेंका नवजात!

राजस्थान का शायद ऐसा पहला मामला होगा जिसमें मां ने पढ़ाई करने के लिए ७ माह की नवजात बच्ची को फेंक दिया। पुलिस ने चार महीने पुराने मामले का खुलासा करते हुए नर्सिंग की छात्रा को गिरफ्तार कर लिया। नवजात का डीएनए नर्सिंग की छात्रा से मैच हुआ है। बता दें कि चित्तौड़गढ़ के सेक्टर एक में २६ जुलाई को नन्ही बच्ची के रोने की आवाज आ रही थी। आवाज सुनकर अजहर और पप्पू नामक दो युवक ने राजस्थान स्टील दुकान के पीछे जाकर नवजात को कबाड़ से निकालकर बच्ची को बचाया और सूचना देकर पुलिस को बुलाया। पुलिस ने बच्ची को हॉस्पिटल पहुंचाया। जांच के दौरान एक छात्रा थोड़ी घबराई हुई दिखी। लावारिस बच्ची के बारे में पूछने पर उसने मना कर दिया। पुलिस ने छात्रा का डीएनए सैंपल लिया और टेस्ट के लिए जयपुर भेजा। डीएनए रिपोर्ट नवजात से मैच हो गया। मामला साफ हो जाने के बाद पुलिस ने छात्रा को गिरफ्तार किया। पुलिस जांच में सामने आया कि छात्रा की २ साल पहले शादी हुई थी और शादी के बाद गुजरात के सूरत में पति के साथ रह रही थी।

अन्य समाचार