मुख्यपृष्ठटॉप समाचारशिवतीर्थ पर उमड़ा एकनिष्ठा का ‘महासागर’!

शिवतीर्थ पर उमड़ा एकनिष्ठा का ‘महासागर’!

शिवसेना की दशहरा रैली में कल शिवतीर्थ पर एकनिष्ठा का ‘महासागर’ उमड़ पड़ा। शिवतीर्थ पर शिवसैनिकों के उमड़े जनसैलाब के इस तूफान ने ‘मिंधे’ गुट के विघ्न को हवा में उड़ा दिया। अपनी रोटी और वडा-पाव खाकर मुंबई व महाराष्ट्र के कोने-कोने से आए शिवसैनिकों का उत्साह देखते ही बनता था। शिवतीर्थ पर दोपहर से ही शिवसैनिकों का जमावड़ा शुरू हो गया था। इस भगवा तूफान को संभालने में पुलिस के पसीने छूट गए। गाजे-बाजे के साथ उद्धव ठाकरे के विचारों का सोना लूटने के लिए बच्चे, बुजुर्ग व महिलाओं की भीड़ से शिवतीर्थ में तिल रखने की भी जगह नहीं बची थी। इस दौरान शिवसैनिकों के उमड़े तूफान ने गद्दारों के मुंह पर तमाचा मारते हुए ‘पचास खोके, ओके’ तथा ‘नीम का पत्ता कड़वा है…’ जैसे नारे खूब गूंजे। शिवतीर्थ पर उद्धव ठाकरे के विचारों का सोना लूटने आई इस रैली में शिवसैनिकों की भीड़ ने पिछले कई वर्षों का रिकॉर्ड तोड़ दिया। शिवतीर्थ के आस-पास माटुंगा, फाइव गार्डन, माहिम, प्रभादेवी आदि का इलाका पूरी तरह से भगवामय हो गया था। मुंबई के बाहर से आनेवाले वाहनों की पार्किंग की व्यवस्था दूर की गई थी। वहां से शिवसैनिक गुलाल उड़ाते, नाचते-गाते हुए और गद्दारों को सबक सिखाने के नारे लगाते हुए शिवतीर्थ की ओर बढ़ रहे थे। इस महारैली ने साबित कर दिया है कि मुंबई व महाराष्ट्र पर उद्धव ठाकरे की शिवसेना ही असली है। मुंबईवासियों के दिल में शिवसेना बसती है। इस महारैली में प्रति वर्ष की तरह इस वर्ष भी महिला शिवसैनिकों की भारी संख्या में उपस्थिति रही। भारी भीड़ होने के बाद भी शिवसैनिकों ने अनुशासन के नियमों का पूरा ध्यान रखा।

अन्य समाचार