मुख्यपृष्ठनए समाचाररक्षक बना भक्षक! ...कैसे रहेंगी महिलाएं सुरक्षित?

रक्षक बना भक्षक! …कैसे रहेंगी महिलाएं सुरक्षित?

पुलिसवाले ने ही किया यौन शोषण
सामना संवाददाता / नई दिल्ली
उत्तर प्रदेश में महिलाओं की सुरक्षा को लेकर योगी बाबा हमेशा डींग हांकते रहते हैं। महिलाओं की सुरक्षा का जिम्मा जिन पुलिस वालों को सौंपा गया है अगर वही उनकी अस्मिता के साथ खिलवाड़ करने लगे तो क्या होगा? ऐसा ही एक मामला गाजियाबाद से सामने आया है जहां कुछ पुलिसकर्मियों पर एक महिला का यौन उत्पीड़न करने का आरोप लगा है। आरोप है कि पुलिस वालों के साथ एक अन्य शख्स ने कथित तौर पर एक महिला को शारीरिक संबंध बनाने के लिए फोर्स किया। इतना ही नहीं पीड़िता और उसके मंगेतर के साथ बदसलूकी और अवैध वसूली भी की गई। मामला सामने आने के बाद गाजियाबाद पुलिस ने एक कॉन्सटेबल को सस्पेंड कर दिया है।

कपल के साथ मारपीट
बताया जाता है कि घटना १६ सितंबर की है। जिसके मुताबिक, महिला दोपहर के वक्त अपने मंगेतर के साथ एक पार्क में घूमने गई थी, तभी वहां पुलिस की बाइक पर दो पुलिस कर्मी और सादे कपड़ों में एक अन्य शख्स पहुंचा। आरोप है कि तीनों ने कपल को डराया धमकाया और महिला के मंगेतर को थप्पड़ भी मारा। इसके बाद पुलिसवालों ने उनसे १० हजार रुपए की मांग भी की। आरोपी पुलिसकर्मियों के नाम राकेश कुमार और दिगंबर हैं। शिकायत में कहा गया है कि राकेश कुमार ने महिला को संबंध बनाने के लिए भी मजबूर किया। उनमें से एक ने कथित तौर पर साढ़े पांच लाख रुपए की मांग की। करीब तीन घंटे तक कपल को रोक कर उन्हें परेशान किया गया। आखिरकार, पेटीएम पर एक हजार रुपए लेने के बाद कपल को जाने दिया गया। पीड़ित महिला ने २८ सितंबर को मामले की शिकायत गाजियाबाद कोतवाली थाने में दर्ज कराई। जिसके बाद इस घटना का खुलासा हुआ।
की गई कार्रवाई
महिला की शिकायत के बाद पुलिस ने आरोपी पुलिसकर्मियों के खिलाफ आईपीसी की धाराओं और भ्रष्टचार रोकथाम कानून के तहत केस दर्ज किया है। इस मामले पर एसपी कोतवाली ने बताया कि पीआरवी पर तैनात कॉन्स्टेबल को तत्काल निलंबित किया गया है और होमगार्ड के खिलाफ कार्रवाई के लिए उसके विभाग से संपर्क किया गया है। एसपी के मुताबिक, तीसरे व्यक्ति के बारे में जानकारी जुटाई जा रही है।

अन्य समाचार