मुख्यपृष्ठनए समाचारमहाजन-मुंडे पर `दरकिनारी' का साया ऐसे ही खडसे को खयाल आया

महाजन-मुंडे पर `दरकिनारी’ का साया ऐसे ही खडसे को खयाल आया

  • भाजपा की गुप्त नीति का राकांपा नेता ने किया पर्दाफाश

सामना संवाददाता / मुंबई
महाराष्ट्र सहित देश में भाजपा को बढ़ाने के लिए भाजपा नेता स्व. प्रमोद महाजन और स्व.गोपीनाथ मुंडे ने अपना जीवन कुर्बान कर दिया। उसी मुंडे-महाजन परिवार पर भाजपा से `दरकिनारी’ का साया छाया हुआ है यानी इस परिवार को भाजपा से दूर किया जा रहा है। यह बात राकांपा नेता एकनाथ खडसे के खयाल में आने के बाद भाजपा की इस गुप्त नीति का उन्होंने पर्दाफाश किया है।
बता दें कि भाजपा नेता पंकजा मुंडे ने कल एक बयान दिया था कि मैं मंत्री पद के योग्य नहीं हूं, ऐसा वरिष्ठों को लग रहा है। पंकजा के इस बयान के बाद वर्तमान समय में राजनीतिक गलियारों में चर्चाओं का बाजार गर्म है। पंकजा मुंडे ने आगे यह भी कहा कि मैं स्वाभिमान की राजनीति करने का प्रयास करती हूं। राकांपा नेता एकनाथ खडसे से पत्रकारों ने जब पंकजा मुंडे के बयान पर सवाल किया तो उन्होंने कहा कि भाजपा को आगे बढ़ाने वाले मुंडे-महाजन परिवार के साथ सतत भाजपा में अन्याय हो रहा है, जिसका प्रत्यक्ष उदाहरण पंकजा मुंडे हैं। हालांकि इसके साथ ही खडसे ने यह भी कहा कि मंत्रिमंडल का विस्तार अभी अधूरा दिखाई दे रहा है, आनेवाले दिनों में पूरा होगा। उसमें भी पंकजा मुंडे का समावेश होगा, इसकी संभावना कम दिखाई दे रही है। इसके साथ ही उन्होंने पंकजा मुंडे को भाजपा के वरिष्ठ नेताओं से मिलने की सलाह भी दी। भाजपा में मुंडे समर्थकों को पूरी तरह से किनारे कर दिया गया है, विशेषकर ओबीसी समाज के नेताओं को भाजपा में तकरीबन समाप्त ही कर दिया गया है, ऐसा खडसे ने कहा।
बागी विधायकों को मंत्री पद न मिलने के बारे में पूछे गए सवाल पर खडसे ने कहा कि हिंदुत्व को लेकर बगावत करनेवाले विधायक मंत्री पद के लिए नाराज होंगे, ऐसा दिखाई नहीं दे रहा है क्योंकि उनके लिए हिंदुत्व महत्वपूर्ण है, ऐसा तंज भी बागी विधायकों पर खडसे ने कसा। उन्होंने कहा कि हमारी इच्छा है कि जालना जिले के सभी विधायकों को मंत्री पद मिले, विशेष करके चिमनराव पाटील को मिलना चाहिए क्योंकि उनकी उम्र हो गई है।

अन्य समाचार