मुख्यपृष्ठनए समाचारओछी राजनीति में मशगूल राज्य सरकार को सुध नहीं ... ८ अस्पतालों...

ओछी राजनीति में मशगूल राज्य सरकार को सुध नहीं … ८ अस्पतालों का निर्माण रह गया अधूरा! …मुंबई के लाखों मरीजों को नहीं मिल

सकेगी हाईटेक चिकित्सा सुविधा
धीरेंद्र उपाध्याय / मुंबई
मुंबई में स्वास्थ्य सेवाओं को बेहतर बनाने के लिए लगातार काम किए जाने का दावा मुंबई मनपा द्वारा किया जाता है। इसके तहत ही मुंबई मनपा ११ अस्पतालों में स्वास्थ्य सेवाओं को अपग्रेड कर रही है। इतना ही नहीं दो नए अत्याधुनिक अस्पताल भी बन रहे हैं। हालांकि, इस बीच मनपा के दावों की पोल खुलती हुई नजर आ रही है। बताया जा रहा है कि मनपा के आठ अस्पतालों की इमारतों का निर्माण अक्टूबर २०२३ से मार्च २०२४ के बीच में पूरा किया जाना था, लेकिन विभिन्न कारणों से इनकी डेडलाइन चूक गई। साथ ही इन अस्पतालों के कामों को पूरा करने के लिए मनपा तारीख पे तारीख दे रही है। एक बार फिर से जून से दिसंबर २०२५ तक की नई तारीख दी गई है। ऐसे में सवाल उठने लगे हैं कि इसी तरह काम में देरी हाती रही तो मनपा मरीजों को वैâसे सुपर सेवाएं देगी।
जुड़ जाएंगे ३,४२३ नए बेड
मनपा का दावा है कि अस्पतालों में पुनर्विकास का काम पूरा होने के बाद इनमें सुपर स्पेशलिटी सेवाएं होंगी। बताया गया है कि बांद्रा के भाभा अस्पताल, गोरेगांव के सिद्धार्थ अस्पताल, बोरीवली के भगवती अस्पताल, विक्रोली के क्रांतिज्योति सावित्रीबाई फुले अस्पताल, कांदिवली के भारत रत्न डॉ. बाबासाहेब आंबेडकर मनपा अस्पताल, गोवंडी के शताब्दी अस्पताल, घाटकोपर के राजावाड़ी अस्पताल, मुलुंड के एमटी अग्रवाल अस्पताल में पुनर्विकास और विस्तार का काम किया जा रहा है। नाहुर के भांडुप मल्टी स्पेशलिटी अस्पताल और चांदीवली स्थित संघर्ष नगर अस्पताल नामक दो नए अस्पताल का भी निर्माण हो रहा है। इन ११ अस्पतालों का काम पूरा होने के बाद इनकी बेडों की क्षमता १,४०५ से बढ़कर कुल ४,८२८ हो जाएगी यानी अस्पतालों में नए ३,४२३ बेड जुड़ जाएंगे।
पार हुई डेडलाइन
मनपा प्रशासन के मुताबिक, मुलुंड के एमटी अग्रवाल अस्पताल, बोरीवली के भगवती अस्पताल, गोवंडी के शताब्दी अस्पताल को अक्टूबर २०२३ और विक्रोली के पार्क साइट स्थित ३० बेड के अस्पताल को बनाने के लिए नवंबर २०२३, जबकि बांद्रा के भाभा अस्पताल के पुनर्विकास के काम को पूरा करने के लिए मार्च २०२४ की डेडलाइन दी गई थी। हालांकि, ये डेडलाइन पार हो चुकी है। इन्हें अब फिर से नई डेडलाइन दी गई है, जिसके तहत अस्पतालों को जून २०२४ से मार्च २०२५ का समय दिया गया है।

करोड़ों रुपयों की उपलब्ध कराई गई निधि
भगवती अस्पताल के पुनर्विकास के लिए ११० करोड़, गोवंडी के निर्माण के लिए ११० करोड़, एमटी अग्रवाल अस्पताल के विस्तार के लिए ९५ करोड़ रुपए, शताब्दी चिकित्सालय कांदिवली के प्रस्तावित निर्माण के लिए ७५ करोड़, सायन अस्पताल परिसर के पुनर्विकास के लिए ७० करोड़ रुपए, एस वॉर्ड, भांडुप में प्रस्तावित मल्टी स्पेशलिटी मनपा अस्पताल के लिए ६० करोड़ रुपए, बांद्रा के केबी भाभा अस्पताल के विस्तार के लिए ५३.६० करोड़ रुपए, चांदीवली के संघर्ष नगर में अस्पताल के लिए ३५ करोड़ रुपए का बजट प्रस्तावित है।

अन्य समाचार