मुख्यपृष्ठनए समाचारपहली से ९वीं की पढ़ाई है अधूरी परीक्षा पर ग्रहण!  ...स्कूल समूह...

पहली से ९वीं की पढ़ाई है अधूरी परीक्षा पर ग्रहण!  …स्कूल समूह की मनमानी से नाराज छात्र और अभिभावक

सामना संवाददाता / ठाणे । कोरोना काल में स्कूल बंद होने के कारण कुछ स्कूलों का पाठ्यक्रम पूरा नहीं हुआ, ऐसे में उन स्कूलों ने पहली से नौवीं की परीक्षाएं आगे खिसका दी हैं। दूसरी तरफ जिन स्कूलों में पाठ्यक्रम पूरा हो गया है, वहां परीक्षाएं चल रही हैं। जिन स्कूलों की निर्धारित परीक्षाओं के कार्यक्रम में बदलाव किया है, उन स्कूलों के विद्यार्थियों के अभिभावक नाराज हो गए हैं।
बता दें कि ठाणे जिले में पिछले दो साल से वैश्विक कोरोना महामारी के कारण स्कूल ऑनलाइन शुरू किए गए थे, साथ ही पिछले कुछ महीनों में कोरोना के प्रकोप कम होने के बाद सरकार के निर्देशानुसार स्कूलों को फिर से खोल दिया गया है।
गौरतलब है कि शिक्षा आयुक्त द्वारा जारी सर्वुâलर में साफ कहा गया है कि जिन स्कूलों ने पाठ्यक्रम पूरा कर लिया है, उन स्कूलों को अपने कार्यक्रम के अनुसार परीक्षा आयोजित करने का निर्देश दिया गया है। जिला परिषद शिक्षा अधिकारी (माध्यमिक) ललिता दहितुले ने बताया कि जिन स्कूलों ने कोविड के कारण पाठ्यक्रम पूरा नहीं किया है, उन्हें तीसरे सप्ताह में परीक्षा कराने का निर्देश दिया गया है। हालांकि, ठाणे के अनुदान प्राप्त स्कूलों ने वार्षिक परीक्षाओं के कार्यक्रम को ६ अप्रैल से १८ अप्रैल से बदलकर ११ अप्रैल से २२ अप्रैल कर दिया है। बदलाव करते समय ऐसा लगता है कि बच्चों की मानसिकता पर कोई ध्यान नहीं दिया गया है। स्कूल की बदलती नीति से अभिभावक भी प्रभावित हुए हैं। इसके अलावा दो साल बाद कोरोना पाबंदियों में ढील दिए जाने से कई अभिभावकों ने परीक्षा के बाद योजना बनाना शुरू कर दिया था। हालांकि स्कूल समूह द्वारा अपनाई गई गलत नीति ने माता-पिता और विद्यार्थियों के बीच आक्रोश का माहौल पैदा कर दिया है। वैसे ‘सूत्रों की मानें तो ठाणे जिले में माध्यमिक विद्यालय समूह के परीक्षा पाठ्यक्रम को इस आधार पर स्थगित कर दिया गया है क्योंकि पाठ्यक्रम पूरा नहीं हुआ है। इससे अभिभावकों और छात्रों में आक्रोश का माहौल है, साथ ही इस संबंध में आक्रोश का माहौल पैâलने के बाद अब जिला परिषद का शिक्षा विभाग स्कूल समूह के पदाधिकारियों से चर्चा कर समाधान निकालेगा।

 

अन्य समाचार