" /> तीसरी लहर का राज्य पर  असर नहीं होने देंगे!… मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने जनता को दिलाया भरोसा

तीसरी लहर का राज्य पर  असर नहीं होने देंगे!… मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने जनता को दिलाया भरोसा

जनता से साधा सीधा संवाद

देश में कोरोना की बढ़ती संख्या के मद्देनजर कल वरिष्ठ वैज्ञानिकों ने कहा कि कोरोना की तीसरी लहर आनी अटल है। महाराष्ट्र सरकार ने तीसरी लहर को ध्यान में रखते हुए जिस प्रकार की तैयारी युद्ध स्तर पर शुरू की है, उससे कोरोना की तीसरी लहर का राज्य में किसी भी प्रकार प्रतिकूल असर नहीं पड़ेगा। यह विश्वास मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने राज्य की जनता को दिलाया। कल वीडियो कांप्रâेंसिंग के माध्यम से वे राज्य की जनता से संवाद साध रहे थे। इस दौरान उन्होंने कोरोना नियंत्रण के लिए सुप्रीम कोर्ट द्वारा मुंबई मनपा की जमकर की गई सराहना का श्रेय मनपा कर्मचारियों सहित राज्य की जनता को दिया। उन्होंने कहा कि मुंबई में कोरोना को मात देना सभी के सहयोग से संभव हो पाया। उद्धव ठाकरे ने इस मौके पर मराठा आरक्षण मामले पर सुप्रीम कोर्ट के पैâसले का स्वागत किया, कहा कि कोर्ट ने हमें नई राह दिखाई है। मराठा आरक्षण के लिए राष्ट्रपति एवं पीएम मोदी को पत्र लिखेंगे। जरूरत पड़ी तो मुलाकात करने दिल्ली भी जाएंगे।
लोगों ने संयम, जिद और अनुशासन से दी कोरोना को मात
उद्धव ठाकरे ने कहा कि कोरोना के खिलाफ लड़ाई में जनता ने संयम, जिद और अनुशासन दिखाया है। परिणामस्वरूप कोरोना के मरीजों की संख्या तेजी से घट रही है। मुंबई में कोरोना कंट्रोल में आ रहा है लेकिन लोग लापरवाह न बनें, कोरोना का खतरा अभी टला नहीं है। कोरोना कंट्रोल के लिए सरकार ने कड़े प्रतिबंध लागू किए और लोगों ने प्रतिबंध का पालन किया। यह लड़ाई अभी जारी रहेगी।
स्वास्थ्य व्यवस्थाओं को बढ़ाने पर जोर
कोरोना की तीसरी लहर पर कंट्रोल के लिए सरकार स्वास्थ्य सुविधाओं को तेजी से बढ़ा रही है। बेड की व्यवस्था हो, या मशीनरी की व्यवस्था, इन सभी से जुड़े जरूरी प्रस्तावों को मंजूरी देने में सरकार जरा भी विलंब नहीं कर रही है। रेमडेसिवीर और अन्य दवाइयों की आपूर्ति जरूरत के अनुसार की जा रही है।
जैसे-जैसे टीका मिलेगा, लोगों को दिया जाएगा
केंद्र सरकार के आदेशानुसार १८ से ४४ वर्ष आयु के लोगों को टीका देने के लिए राज्य सरकार पूरी तरह तैयार है। ६ करोड़ युवाओं को १२ करोड़ खुराक की जरूरत होगी। सरकार १० लाख लोगों को एक दिन में टीका दे सकती है, इतनी क्षमता है लेकिन टीका उपलब्धता की समस्या है। जैसे-जैसे टीके की खेप मिलेगी, टीका दिया जाता रहेगा।
३ हजार मीट्रिक टन ऑक्सीजन का होगा निर्माण
कोरोना को मात देने के लिए राज्य में मिशन ऑक्सीजन चलाया जाएगा। महाराष्ट्र में ३ हजार टन ऑक्सीजन रोजाना निर्माण करने की तैयारी हो रही है। महाराष्ट्र ऑक्सीजन आपूर्ति के लिए आत्मनिर्भर बनेगा। ऑक्सीजन आपूर्ति के लिए केंद्र और अन्य राज्यों पर राज्य निर्भर नहीं रहेगा। फिलहाल राज्य में रोजाना १२ सौ मीट्रिक टन ऑक्सीजन उत्पन्न हो रहा है। कुल १७ सौ मेट्रिक टन की जरूरत पड़ रही है, जिसमें ५०० मीट्रिक टन केंद्र सरकार से मिल रहा है। २०० मीट्रिक टन अतिरिक्त ऑक्सीजन मांग केंद्र से की गई है।
फैमिली डॉक्टर्स का होगा मार्गदर्शन
उद्धव ठाकरे ने कहा कि कोरोना की रोकथाम के लिए लोगों के पैâमिली डॉक्टरों का जूम मीटिंग के माध्यम से मार्गदर्शन किया जाएगा। कोरोना के लक्षण, प्राथमिक उपचार, जरूरत के हिसाब से दवाओं आदि के संदर्भ में पैâमिली डॉक्टर्स का संपूर्ण मार्गदर्शन किया जाएगा, इससे कोरोना मरीजों को प्राथमिक दौर में ही उचित उपचार मिलने से वे ठीक हो सकेंगे।