मुख्यपृष्ठखबरेंहिट एंड रन की अनसुलझी पहेली! ...आज भी ५० फीसदी आरोपी हैं...

हिट एंड रन की अनसुलझी पहेली! …आज भी ५० फीसदी आरोपी हैं फरार 

 ७० प्रतिशत वाहन चालक हैं अज्ञात 
पिछले वर्ष हुई थी २०० की मौत, ५८९ लोग जख्मी

सामना संवाददाता / ठाणे
ठाणे पुलिस आयुक्तालय की सीमा में हिट एंड रन मामले में एक चौंकानेवाली जानकारी सामने आई है। दरअसल, ठाणे पुलिस आयुक्तालय की सीमा में वर्ष २०२३ में जनवरी से दिसंबर के दौरान ८७४ वाहन दुर्घटनाएं दर्ज की गई हैं। इन दुर्घटनाओं में २०० लोगों की मौत हो गई है और ५८९ यात्री गंभीर रूप से घायल हो गए हैं। सूत्रों ने बताया कि हादसों के ५० फीसदी आरोपी अभी भी पुलिस की पहुंच से बाहर हैं, वहीं करीब ७० फीसदी मामलों में दुर्घटना के बाद वाहन चालक दुर्घटना स्थल से फरार होने में सफल रहे हैं, यानी वे अज्ञात हैं। जिनकी तलाश पुलिस अब भी कर रही है।
७० फीसदी वाहन चालक हो जाते हैं फरार
अक्सर यह देखा जाता है कि हादसे के बाद वाहन चालक तेजी से भाग जाते हैं। इसलिए यह समझ पाना संभव नहीं हो पाता है कि किस वाहन की टक्कर से सामने वाले वाहन के चालक या यात्री की मौत हुई। इसलिए ठाणे पुलिस ने भी दुर्घटना को अज्ञात वाहन की टक्कर से मौत के रूप में दर्ज किया। एक पुलिस अधिकारी ने कहा, लगभग ७० प्रतिशत ड्राइवर अज्ञात हैं।
एक वर्ष में १८७ दुर्घटनाएं
जनवरी और दिसंबर २०२३ के बीच, ठाणे सिटी पुलिस कमिश्नरेट के तहत पांच सर्कलों, ठाणे, भिवंडी, कल्याण, उल्हासनगर और वागले इस्टेट के ३५ पुलिस स्टेशनों में १८७ घातक दुर्घटनाएं दर्ज की गर्इं। इसमें २०० लोगों की मौत हुई है।

कानून में अभी बदलाव नहीं 
वहीं इस बारे में कानून के जानकारों का कहना है कि लापरवाही से मौत के मामले में तीन साल की सजा है। यह अपराध जमानतीय है। नए कानून के मुताबिक यह सजा बढ़ाकर दस साल कर दी गई है। हालांकि, प्रस्तावित कानून में बदलाव अभी तक लागू नहीं किया गया है। इस पर विचार चल रहा है।

अन्य समाचार