मुख्यपृष्ठअपराधपाकिस्तान के दहशतगर्दों के लिए जहन्नुम बनी घाटी!

पाकिस्तान के दहशतगर्दों के लिए जहन्नुम बनी घाटी!

  •  जून में ३० और इस साल अभी तक १२३ आतंकी ढेर
  • फिर भी पाक सीमा पर घुसपैठ को तैयार हैं ४०० आतंकी

सुरेश एस डुग्गर / जम्मू
हिंदुस्थानी फौज के आगे दहशतगर्दों के लिए कश्मीर घाटी जहन्नुम बन गई है। कश्मीर में इस महीने अब तक ३० दहशतगर्दों को ढेर कर दिया गया है। मई महीने में भी २७ को मार दिया गया था। इस तरह से इस साल अभी तक १२३ आतंकी मौत के घाट उतार दिए गए हैं, जबकि इन मौतों के बावजूद पाकिस्तान उस पार से आतंकियों को धकेलने को उतावला है। दावा किया जा रहा है कि पाक सीमा पर ३०० से ४०० आतंकी घुसपैठ को तैयार बैठे हैं। जम्मू-कश्मीर से आतंकियों का पूरी तरह से सफाया करने के लिए सेना का ऑप्रेशन ऑल आउट और ऑप्रेशन क्लीन जारी है घाटी में सेना एक के बाद एक आतंकियों को मार रही है। जानकारी के अनुसार सेना ने अब तक कश्मीर में १२३ आतंकियों को मुठभेड़ में मार गिराया है, इसमें ३६ विदेशी आतंकी भी शामिल हैं। कश्मीर घाटी में कश्मीरी हिंदू को लेकर टारगेट किलिंग की घटनाएं बढ़ने के बाद से सेना के ऑल आउट में भी तेजी आई है। सेना के इन विशेष आप्रेशनों से आतंकी लगातार हताशा के दौर में है। इसके बावजूद पाकिस्तान आतंकी साजिश रचने से बाज नहीं आ रहा है।
घुसपैठ की कोशिश में पाक आतंकी
जानकारी के अनुसार सेना ने ६ माह के भीतर १२३ आतंकियों को मार गिराया है। जिनमें से ७७ आतंकी लश्कर-ए-तोयबा से संबंधित थे, वहीं सुरक्षाबलों के साथ मुठभेड़ में मारे गए २६ आतंकी जैश-ए-मोहम्मद के सदस्य थे। अकेले जून के महीने में सुरक्षाबलों ने एनकाउंटर में ३० आतंकियों को मौत के घाट उतार दिया है। वहीं मई के महीने में २७ आतंकी सुरक्षाबलों के साथ एनकाउंटर में ढेर हुए थे। पिछले साल यानी २०२१ में जून तक ५५ आतंकियों को सेना ने मुठभेड़ में मार गिराया था। जिसमें २ विदेशी आतंकी भी शामिल थे। जानकारी के अनुसार वर्ष २००८ से अब तक इस सेक्टर में एलओसी के करीब ३५० से ज्यादा आतंकी मारे जा चुके हैं और सेना के भी ८० के करीब जवान शहीद हुए हैं। करीब ८१४ किलोमीटर लंबी एलओसी में से २५ किमी का हिस्सा मच्छेल सेक्टर में पड़ता है। यहां पिछले १५ सालों में १,५०० से ज्यादा घुसपैठ के प्रयास हुए हैं।

अन्य समाचार