मुख्यपृष्ठअपराधपत्नी ने अपने हाथों से मांग का सिंदूर मिटाया... पति को जिंदा...

पत्नी ने अपने हाथों से मांग का सिंदूर मिटाया… पति को जिंदा बहाया!

  • सास से बोली काम करने गए हैं गुजरात
  • प्रेमी को पति बताकर कराती रही बात

सामना संवाददाता / मुरैना
प्रेमी के प्यार में पागल पत्नी ने प्रेमी के साथ मिलकर पति की हत्या कर दी। हत्या का तरीका भी ऐसा कि पकड़ पाना मुश्किल था। उसने पति को पहले नींद की गोलियां खिलाकर उसके कपड़े उतार दिए। इसके बाद नहर में जिंदा बहा दिया। प्रेमी के साथ मिलकर पति की लाश नहर में बहाने के बाद अपने हाथों से अपने मांग का सिंदूर भी मिटाकर प्रेमी के हाथ से मांग में सिंदूर भरवा लिया जिससे घर का कोई भी इस घटना को जान न सके। सड़ा-गला शव मिलने पर पुलिस ने लावारिस मानकर इसे दफना भी दिया। इधर, पत्नी ने अपनी बुजुर्ग सास को यह कह दिया कि पति गुजरात कमाने गया है। वह २२ महीने तक सास से प्रेमी की बात यह कहकर कराती रही कि पति का फोन है। राज तब खुला, जब पत्नी ने ननद से अपने प्रेमी को उसका भाई बताकर बात कराई। ननद पहचान गई कि ये आवाज उसके भाई की नहीं है। वह अपनी मां को लेकर सीधा थाने पहुंच गई और पुलिस को भाई के गुम होने की रिपोर्ट की। पुलिस ने जांच की तो आरोपी पत्नी और उसके प्रेमी की सारी करतूत सामने आ गई।
जिंदा नहर में बहाया
पत्नी और उसके प्रेमी को डर था कि जब विश्वनाथ गायब हो जाएगा तो लोग उसके बारे में पूछेंगे। इसके लिए दोनों ने साजिश रची कि उसको नींद की गोलियां खिलाकर सिकरौदा नहर में बहा देंगे। पत्नी ने विश्वनाथ को सामान खरीदने के बहाने बाजार ले गई। उसने विश्वनाथ को नींद की गोलियां खिला दीं। जब उसे नींद आ गई तो बेहोशी की हालत में प्रेमी के साथ मिलकर उसके सभी कपड़े निकालकर जिंदा ही नहर में बहा दिया।
२२ महीने किया गुमराह
पति की हत्या के सात महीने बाद आरोपी पत्नी ने ससुराल छोड़ दिया। वह मुरैना शहर आकर किराए से कमरा लेकर प्रेमी अरविंद के साथ रहने लगी। जब वह गांव जाती तो बुजुर्ग सास बेटे के बारे में पूछती। इस पर वह अपने प्रेमी से उसका बेटा बताकर बात करा देती। आरोपी पत्नी और उसके प्रेमी अरविंद ने विश्वनाथ सखवार को नहर में बहाने से पहले उसके मोबाइल से सिम निकाल ली थी।
बहन ने पहचान ली आवाज
विश्वनाथ की बहन वंदना ने भाभी से भाई का नंबर मांगा। बोली उससे बात किए बहुत दिन हो गए हैं। वंदना ने जब बात की तो उसे शक हुआ कि ये आवाज भाई की नहीं है। इसके बाद वह मायके पहुंची। उसने अपनी मां से बात की। मां को लेकर सिंहौनियां थाना पहुंची और पुलिस को पूरी बात बताई।

अन्य समाचार