मुख्यपृष्ठअपराधयूपी में पुलिस लिखे वाहन से किया चोरी... शान मोहम्मद गैंग के...

यूपी में पुलिस लिखे वाहन से किया चोरी… शान मोहम्मद गैंग के चार सदस्य गिरफ्तार!

मनोज श्रीवास्तव / लखनऊ

सिद्धार्थनगर जिले के डुमरियागंज और बांसी में चोरी की वारदात को अंजाम देने वाले बरेली गैंग के चार सदस्यों को मंगलवार शाम को एसओजी टीम ने दबोच लिया। पकड़े गए बदमाशों के साथ एक महिला भी है, जो ठहरने पर इनका सहयोग करती थी। इनके कब्जे से चोरी के नकदी और आभूषण बरामद किया गया है। साथ ही एक चार पहिया वाहन भी मिला है, जिस पर पीछे पुलिस लिखा हुआ है। ऐसे में आशंका व्यक्त की जा रही है कि रास्ते में कोई पूछताछ न करे इसलिए उसका प्रयोग कर रहे थे। पूछताछ करने के बाद चारों को न्यायालय के समक्ष प्रस्तुत किया गया, जहां से उन्हें जेल भेज दिया गया।
पुलिस अधीक्षक अभिषेक कुमार अग्रवाल ने बताया कि चार दिन पहले डुमरियागंज और बांसी कोतवाली क्षेत्र के थुम्हवा गांव में एक ही रात कई घरों में चोरी हुई थी। चोरी के मामले में बांसी पुलिस ने एक आरोपी को पकड़ा था, जो बदायूं जनपद का रहने वाला था। जांच में पता चला कि यह एक गैंग है, जो चोरी की वारदात को अंजाम देता है। मामले का पर्दाफाश करने के लिए एसओजी और बांसी पुलिस को लगाया गया था। सोमवार रात एसओजी प्रभारी शेषनाथ यादव को मुखबिर से सूचना मिली कि चोरी करने वाला गैंग क्षेत्र में वारदात को अंजाम देने वाले हैं। सूचना को संज्ञान में लेते हुए बांसी- डुमरियागंज मार्ग पर स्थित सरयू नहर के पास पुलिस खड़ी थी। एक काले कलर की बोलेरो आती हुई दिखी। पुलिस टीम ने गाड़ी को रोकने का संकेत किया। पुलिस टीम को देखते ही भागने लगे। जवानों ने घेराबंदी करके वाहन को रोका। तलाश में उनके कब्जे से 42,950 रुपए नकदी, आभूषण और चोरी में ताला तोड़ने में प्रयोग होने वाला सामान बरामद किया गया। पूछताछ में इन्होंने डुमरियागंज, बांसी और खेसरहा में वारदात करने की बात को स्वीकार किया है।
पकड़े गए आरोपियों की पहचान शान मोहम्मद अंसारी उर्फ नीलू अंसारी निवासी मोहल्ला एजाज नगर गौटिया थाना बारादरी जिला बरेली, सादिक अली, आलम और नसीबन पत्नी अजमत अली उर्फ दुलारे निवासी गढ़िया पैगंबरपुर थाना हजरतपुर जिला बदायू के रूप में हुई। शान मोहम्मद अंसारी उर्फ नीलू अंसारी गैंग लीडर है जो बरेली से गैंग चलाता है। वह 25 हजार रुपए का इनामी भी है। पूछताछ करने के बाद न्यायालय के समक्ष प्रस्तुत किया गया, जहां से उन्हें जेल भेज दिया गया। पकड़ने वाली टीम में सदस्य कोतवाल बांसी बिदेश्वरीमणि त्रिपाठी, एसओजी प्रभारी शेषनाथ यादव, सर्विलांस सेल प्रभारी सहित टीम को पांच हजार रुपए इनाम दिया गया है।

अन्य समाचार