मुख्यपृष्ठखेल...तो जीत जाता हिंदुस्थान! ...नहीं उठा पाए पेनाल्टी शूटआउट का फायदा

…तो जीत जाता हिंदुस्थान! …नहीं उठा पाए पेनाल्टी शूटआउट का फायदा

भारतीय टीम हॉकी विश्व कप से बाहर हो गई है। अपनी मेजबानी में टीम इंडिया की नजर लगातार दूसरी बार क्वॉर्टर फाइनल में जगह बनाने पर थी, लेकिन उसे इसमें सफलता नहीं मिली। इस असफलता के पीछे हिंदुस्थान का कमजोर डिफेंस और पेनाल्टी कॉर्नर का फायदा न उठा पाना है। न्यूजीलैंड के खिलाफ हिंदुस्थान को ११ पेनाल्टी कॉर्नर मिले, परंतु दो को ही गोल में बदल पाए। पेनाल्टी शूटआउट में हिंदुस्थान की यह कमजोरी उसके हार का मुख्य कारण बनी।
क्रॉसओवर मुकाबले में न्यूजीलैंड ने उसे पेनाल्टी शूटआउट में ५-४ से हरा दिया। इससे पहले निर्धारित ६० मिनट तक मुकाबला ३-३ की बराबरी पर रहा था। हॉकी विश्व कप से बाहर होने के साथ ही हिंदुस्थान का १९७५ के बाद पदक जीतने की उम्मीदें भी टूट गर्इं। ग्रुप में दूसरे स्थान पर रहने के कारण हिंदुस्थान सीधे क्वॉर्टर फाइनल में नहीं पहुंच सका। टीम इंडिया हॉकी रैंकिंग में छठे और न्यूजीलैंड १२वें स्थान पर है। ऐसे में लग रहा था कि हिंदुस्थान आसानी से मैच को जीत लेगा, परंतु ऐसा हुआ नहीं।
पहले हाफ तक भारतीय टीम ने मैच में ३-१ की बढ़त हासिल कर रखी थी लेकिन नियमित समय तक कीवी टीम ने वापसी की और ३-३ से मैच को बराबर कर पेनाल्टी शूटआउट में ले गए। जहां पर कीवी टीम ने हिंदुस्थान को ४-५ से हराकर खिताब की रेस से बाहर कर दिया। इस हार के साथ ही हिंदुस्थान का ४८ साल के बाद विश्व कप का खिताब जीतने का सपना भी टूट गया। निर्धारित समय में, हिंदुस्थान ने ११ पेनाल्टी कॉर्नर अर्जित किए और उनमें से दो को गोल में बदला, जबकि न्यूजीलैंड को सिर्फ दो पेनाल्टी कॉर्नर मिले। हिंदुस्थान को गोल करने के कई मौके मिले लेकिन अग्रिम पंक्ति की फिनिशिंग कौशल की कमी देखने को मिली, जो हार का कारण बनी।

अन्य समाचार