मुख्यपृष्ठसमाचारफिर आंदोलन को मजबूर किसान ... जींद में किसानों ने किया प्रदर्शन

फिर आंदोलन को मजबूर किसान … जींद में किसानों ने किया प्रदर्शन

सामना संवाददाता / जींद। हरियाणा के जींद में संयुक्त किसान मोर्चा के आह्वान पर कल किसानों ने प्रदर्शन किया। किसानों ने लघु सचिवालय पहुंच कर राष्ट्रपति को संबोधित ज्ञापन डीसी मनोज कुमार को सौंपा। किसान नेताओं ने चेताया कि सरकार ने शीघ्र ही उनकी मांगों को पूरा नहीं किया और अपने किए वादों पर अमल नहीं किया तो वो फिर से आंदोलन करने को मजबूर होंगे। इसकी जिम्मेवारी सरकार की होगी। भारतीय किसान यूनियन के जिलाध्यक्ष बारूराम, प्रवक्ता रामराजी ढुल, किसान नेता रामफल कंडेला, रमेश चंद ने कहा कि संयुक्त किसान मोर्चा ने सरकार के आश्वासन और भरोसे पर दिल्ली बॉर्डर से अपने मोर्चों को उठाने का एलान किया था। इसके बाद से सरकार अपने वादे से मुकर कर किसानों के जख्मों पर नमक छिड़कने का काम कर रही है। इसलिए पूरे देश के किसानों ने विश्वासघात दिवस भी मनाया था और हर जिले से ज्ञापन भेजे थे, लेकिन इन ज्ञापनों पर भी कोई संज्ञान नहीं लिया गया। उन्होंने कहा कि कृषि एवं कल्याण मंत्रालय के सचिव संजय अग्रवाल ने संयुक्त किसान मोर्चा के नाम पत्र में वादा किया था कि देश के किसानों को एमएसपी मिलना वैâसे सुनिश्चित किया जाए, इस पर कमेटी बनाई जाएगी। अब तक सरकार ने न तो कमेटी के गठन की घोषणा की है और न ही कमेटी के स्वरूप और उसकी तिथि के बारे में कोई जानकारी दी है।
जख्मों पर नमक छिड़क रही सरकार
बारूराम ने कहा कि सरकार का वादा था कि आंदोलन के दौरान किसानों पर दर्ज मुकदमे तुरंत प्रभाव से वापस लिए जाएंगे लेकिन अभी तक कई किसानों पर दर्ज मुकदमे वापस नहीं लिए गए हैं। सरकार अपने वादों से मुकरकर किसानों के जख्मों पर नमक छिड़कने का काम कर रही है।

अन्य समाचार