मुख्यपृष्ठनए समाचारमुंबई के मुहाने पर कोरोना ...ओमायक्रॉन वेरिएंट जीएन-१ की है दहशत

मुंबई के मुहाने पर कोरोना …ओमायक्रॉन वेरिएंट जीएन-१ की है दहशत

• अलर्ट मोड पर मनपा
• बढ़ाए जाएंगे टेस्ट, तैनात किए
• जाएंगे साढ़े पांच हजार बेड
सामना संवाददाता मुंबई
ढाई सालों तक मुंबई और महाराष्ट्र समेत पूरी दुनिया को अपनी गिरफ्त में लेनेवाला कोरोना पूरी तरह से कंट्रोल में आ गया था। लेकिन एक बार फिर से महाराष्ट्र समेत पूरे हिंदुस्थान में कोरोना के मामले बढ़ने लगे हैं। इसी में नया सब वेरिएंट ‘जीएन.१’ मुंबई के मुहाने पर पहुंच गया है। महाराष्ट्र में इस वैरिएंट की एंट्री होते ही मनपा अलर्ट मोड में आ गई है। इसके तहत पैâसला किया गया है कि मुंबई में इस महीने अब तक मिले सभी ३४ मामलों की जीनोम सीक्वेंसिंग की जाएगी। साथ ही अब प्रतिदिन १,००० टेस्ट की संख्या बढ़ाई जाएगी। एहतियात के तौर पर सेवन हिल्स अस्पताल समेत १६ मनपा अस्पतालों में करीब साढ़े पांच हजार बेड की व्यवस्था की जाएगी।
मुंबई में मार्च २०२० में कोरोना की एंट्री हुई थी, जिसने कुछ ही दिनों में पूरे शहर को अपने आगोश में ले लिया था। इस महामारी ने मुंबई समेत पूरे देश में आपातकाल की स्थिति पैदा कर दी थी। हालांकि तत्कालीन महाविकास आघाड़ी सरकार और मनपा प्रशासन द्वारा किए गए कई तरह के उपायों के कारण महामारी कंट्रोल में आ सकी थी, लेकिन करीब एक साल के ब्रेक के बाद एक बार फिर कोरोना मरीजों की संख्या में बढ़ोतरी हो रही है। इस पृष्ठभूमि में मनपा के अपर आयुक्त डॉ. सुधाकर शिंदे ने कल प्रेस कॉन्प्रâेंस कर कोरोना से बचाव के लिए मनपा की व्यवस्था की जानकारी दी। उन्होंने कहा कि १६ मनपा अस्पतालों में तथा सेवन हिल्स अस्पताल समेत कुल ५,५०५ बेड की व्यवस्था की गई है। इसके साथ ही कोरोना से बचाव के लिए जरूरी दवाओं और संपूर्ण स्वास्थ्य प्रणाली तैयार रखी जाएगी। उन्होंने कहा कि जरूरत पड़ने पर ११४ निजी अस्पतालों में बेड की व्यवस्था करना संभव होगा। इस अवसर पर मनपा की कार्यकारी स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. दक्षा शाह उपस्थित थीं।
इस तरह बढ़ता जा रहा है खतरा
मुंबई में पिछले एक महीने से हर दिन १,००० टेस्ट हो रहे हैं। इस बीच ३४ कोरोना संक्रमित मरीज पाए गए हैं। २० दिन में मरीजों की संख्या तीन गुना बढ़ गई। संक्रमित मरीजों का अनुपात १.६ फीसदी था, लेकिन अब यह अनुपात बढ़कर ३.३ फीसदी हो गया है।
मास्क नहीं है अनिवार्य
डॉ. सुधाकर शिंदे ने कहा कि मुंबई में कोरोना संक्रमण अभी भी पूरी तरह से नियंत्रण में है। इसलिए कम से कम अभी मास्क के इस्तेमाल पर जोर देना जरूरी नहीं है। इसके अलावा मनपा की ओर से स्पष्ट किया गया कि सामाजिक दूरी, टेस्ट की अनिवार्यता अथवा हवाई अड्डों, रेलवे स्टेशनों, बस स्टेशनों पर अनिवार्य परीक्षण या स्क्रीनिंग नहीं होगी।

अन्य समाचार