मुख्यपृष्ठनए समाचारबालासाहेब ठाकरे जैसा हिंदुत्ववादी कोई नहीं! ... देवकीनंदन ठाकुर महाराज की घोषणा

बालासाहेब ठाकरे जैसा हिंदुत्ववादी कोई नहीं! … देवकीनंदन ठाकुर महाराज की घोषणा

कविता श्रीवास्तव / मुंबई
सुविचारक, कथावाचक एवं चर्चित भागवत मर्मज्ञ देवकीनंदन ठाकुर महाराज ने भागवत कथा के दौरान घोषणा करते हुए कहा कि महाराष्ट्र की पावन भूमि धन्य है, जहां छत्रपति शिवाजी महाराज और हिंदूहृदयसम्राट बालासाहेब ठाकरे जैसे निडर व पराक्रमी हिंदुत्ववादी हुए। उन्होंने कहा कि ऐसे वीर व जांबाज लोगों के दम पर महाराष्ट्र में ही नहीं बल्कि हर जगह सनातन संस्कृति और हिंदुत्व की रक्षा होती है। ऐसे ही वीर लोगों की प्रेरणा व आराध्य बनते हैं।
बता दें कि देवकीनंदन ठाकुर के पावन मुखारविंद से भागवत कथा का हजारों श्रद्धालु बोरीवली के चीकूवाड़ी में आनंद उठा रहे हैं। कथा प्रसंग में उन्होंने भगवान श्रीकृष्ण की बातें सुनाते-सुनाते अचानक मर्यादा पुरुषोत्तम प्रभु श्रीरामचंद्रजी के अयोध्या में बन रहे भव्य मंदिर का जिक्र किया। इसके तुरंत बाद उन्होंने गाया..
‘रामजी से पूछें जनकपुर क नारी,
बतावा बबुआ, रहुआ देते काहे गारी…’
शुद्ध भोजपुरी धुन पर उनके यह गाते ही पूरे पंडाल में बैठी महिलाएं उठकर झूम उठीं और जबरदस्त माहौल बना। ‘जय श्रीराम’ के अत्यंत ही ऊर्जावान जयकारे के साथ उन्होंने श्रीकृष्ण जन्मभूमि का मुद्दा भी उठाया। समस्त श्रद्धालुओं से उन्होंने अपील की कि अब श्रीकृष्ण जन्मभूमि को मुक्त करने के लिए सभी हिंदुत्ववादियों को उठ खड़ा होना होगा। उन्होंने कहा कि संवैधानिक तरीके से अपना हक वापस लेना है। सभी सनातनी अपनी आवाज उठाना सीखें और लड़ने का स्वभाव बनाएं। अपने अधिकारों व अपने हकों के लिए संवैधानिक व सामाजिक लड़ाई लड़ने के लिए तैयार रहें। उन्होंने कहा कि आक्रांताओं ने सनातन संस्कृति पर बहुत अत्याचार किए हैं, लेकिन अब पुराने पाप को धोने का यही अनुकूल समय है। उन्होंने कहा कि साधु-संतों, कथाकारों ने सनातन संस्कृति को सदियों से धरोहर के रूप में संभाले रखा है। अब हम सबको पुराने गुरुकुल प्रणाली की शिक्षा भी अपने बच्चों को देनी चाहिए। हमें चाहिए कि हम श्रीराम जन्मभूमि पर प्राण-प्रतिष्ठा के पहले अपने घर के हर बच्चे को राम का भरपूर परिचय बताएं। इस संबंध में देवकीनंदन ठाकुरजी महाराज स्वयं अनेक कार्यक्रमों का आयोजन करने वाले हैं।
झूम उठे देवकीनंदन
देवकीनंदन महाराजजी ने अपने सिर पर मटकी उठाकर झूम-झूमकर श्रीकृष्ण जन्मोत्सव की बधाइयां जमकर लुटार्इं। खिलौने, चॉकलेट, बिस्कुट, नमकीन के पैकेट, ड्राईप्रâूट, फल आदि को प्रसाद के रूप में लूटने का उत्साह अत्यंत ही जोशीला रहा।

‘बालासाहेब ठाकरे का राम मंदिर निर्माण में प्रमुख योगदान!’
– जगद्गुरु रामभद्राचार्य
हिंदूहृदयसम्राट शिवसेनाप्रमुख बालासाहेब ठाकरे कट्टर हिंदूवादी और धीर-वीर पुरुष थे। राम मंदिर निर्माण में उनका प्रमुख योगदान रहा है। मैं उनका बहुत ही सम्मान करता हूं। यह कहना है जगद्गुरु रामभद्राचार्य का। मुंबई के मालाड-पूर्व में स्थित कुरार विलेज में उनकी राम कथा चल रही है। इसके लिए आयोजित प्रेस कॉन्प्रâेंस में उन्होंने उक्त बातें कहीं।

अन्य समाचार