मुख्यपृष्ठनए समाचारयह साजिश लज्जा और शर्म से परे! उद्धव ठाकरे का संताप

यह साजिश लज्जा और शर्म से परे! उद्धव ठाकरे का संताप

अंतिम समय तक तानाशाही के विरोध में लड़ते रहेंगे, महाराष्ट्र का पराक्रम क्या होता है, यह अन्याय करनेवालों को दिखा देंगे

सामना संवाददाता / मुंबई
एक अलग पर्व की शुरुआत हो गई है। मुख्य न्यायाधीश ने कहा था कि विपक्ष को दुश्मन न समझो लेकिन अब विपक्ष तो दूर है, एक समय मित्र पार्टी थी, उसका भी गला घोंटने का प्रयास किया जा रहा है। संजय राऊत पर की गई ‘ईडी’ की कार्रवाई इसी का हिस्सा है। जो हिंदुओं, स्थानीय लोगों और शिवसेना की आवाज बुलंद कर रहा है, उसका गला घोंटने की यह साजिश है। यह साजिश लाज, शर्म छोड़कर चल रही है। इन साजिशों को उखाड़ फेंकने  की आज जरूरत है। आखिरी क्षणों तक इस जुल्मशाही के विरोध में लड़ते रहेंगे। महाराष्ट्र की मिट्टी क्या है, यहां का पराक्रम क्या होता है, यह हम पर अन्याय करने वालों को दिखाए बगैर शांत नहीं बैठेंगे। यह चेतावनी शिवसेनापक्षप्रमुख उद्धव ठाकरे ने कल दी।
ठाणे के शिवसैनिकों ने कल ‘मातोश्री’ आवास पर शिवसेनापक्षप्रमुख उद्धव ठाकरे से मुलाकात की। इस अवसर पर शिवसेना सांसद राजन विचारे और धर्मवीर आनंद दिघे के भतीजे केदार दिघे भी उपस्थित थे। ईडी पर हमला बोलते हुए उद्धव ठाकरे ने कहा कि आज हम यहां बातें कर रहे हैं, उधर संजय राऊत के घर ईडी के मेहमान आकर बैठे हैं। कल से ही एक शुरुआत हो गई है। यह क्या साजिश है? यही साजिश है कि कल जो कोश्यारी ने कहा, स्थानीय लोगों का अपमान किया, स्थानीय लोगों का नमक खाकर नमक हरामी की, उसी का यह अगला चरण है।

अन्य समाचार