मुख्यपृष्ठनए समाचारयह भाजपा की तानाशाह सरकार है! ... सुप्रिया सुले ने बोला सरकार...

यह भाजपा की तानाशाह सरकार है! … सुप्रिया सुले ने बोला सरकार पर हमला

हमारी सरकार आएगी तो होगी संपूर्ण कर्जमाफी
सामना संवददाता / मुंबई
दिल्ली में भाजपा की तानाशाह सरकार है। यह सरकार लोकतंत्र नहीं चाहती है, इसलिए चुनाव नहीं हो रहे हैं। डेढ़ साल से स्थानीय स्वराज्य संस्था के चुनाव नहीं हुए हैं, ऐसे शब्दों में राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी की सांसद सुप्रिया सुले ने भाजपा सरकार पर हमला बोला। उन्होंने कहा कि राज्य में प्याज उत्पादक परेशान हैं, क्योंकि किसानों के प्याज को सस्ते दाम मिल रहे हैं। यही स्थिति डेयरी किसानों की भी है। इसी के चलते राकांपा की ओर से किसानों की तत्काल कर्जमाफी समेत अन्य मांगों को लेकर आक्रोश मोर्चा निकाला गया। इस मोर्चा का कल तीसरा दिन था और बारामती विधानसभा क्षेत्र के दौंड से इस मोर्चे में राकांपा की कार्यकारी अध्यक्ष और सांसद सुप्रिया सुले भी शामिल हुर्इं। मीडिया से बात करते हुए सुप्रिया सुले ने आरोप लगाया कि केंद्र सरकार और ट्रिपल इंजन सरकार ने किसानों की कमर तोड़ने का काम किया है। किसानों के प्याज के मुद्दे पर मैंने कई बार ट्विटर के माध्यम से केंद्रीय मंत्री को अवगत कराया था, लेकिन इस सरकार द्वारा कोई ठोस निर्णय नहीं लेने के कारण आज प्याज उत्पादक किसान संकट में हैं। सुले ने कहा कि प्याज के संबंध में बार-बार केंद्रीय मंत्री को बताया था, इस संदर्भ में संसद में भी सवाल उठाया था, लेकिन उस समय भ्रष्ट जुमले पार्टी द्वारा मेरी आलोचना की जा रही थी, लेकिन अब किसानों को एक रुपए दाम प्याज मिल रहा है, किसान प्याज की खड़ी फसल जला रहे हैं। इससे स्पष्ट हो जाता है कि देश और राज्य की सरकार किसान विरोधी है। उन्होंने यह भी कहा कि हमारी सरकार सत्ता में आने पर हम तुरंत किसानों के कर्ज माफ कर देंगे।
जब देवेंद्र फडणवीस गृहमंत्री बनते हैं तो राज्य में अपराध बढ़ते है
पांच साल पहले जो फडणवीस थे। वे अब नहीं रह गए हैं। भाजपा फडणवीस के साथ अन्याय कर रही है। दिल्ली के नेताओं द्वारा फडणवीस का अपमान किया जाता है। अगर कोई नेता कड़ी मेहनत कर रहा है, तो क्या उसका सम्मान नहीं किया जाना चाहिए, लेकिन यह एक मराठी व्यक्ति का दिल्ली की दरबार द्वारा अपमान किया जा रहा है। इसके साथ उन्होंने यह भी कहा कि जब देवेंद्र फडणवीस गृहमंत्री बनते हैं, तो राज्य में अपराध बढ़ते हैं।
किसानों की कमर तोड़ने का पाप केंद्र और राज्य सरकार ने किया
सुप्रिया सुले ने आगे कहा कि आम जनता और किसानों की कमर तोड़ने का पाप केंद्र सरकार और राज्य की ट्रिपल इंजन सरकार ने किया है। सरकार ने प्याज के निर्यात पर रोक लगाकर किसानों के मुंह से निवाला छीन लिया है। सुले ने यह भी कहा कि भाजपा सरकार की किसान विरोधी नीतियों ने किसानों की कमर तोड़ दी है। उन्होंने कहा कि भाजपा से मेरा कोई व्यक्तिगत विरोध नहीं है। यह विरोध गलत नीतियों को लेकर है। हमारी लड़ाई भाजपा की किसान विरोधी नीतियों के खिलाफ है। भाजपा किसानों और महिलाओं की विरोधी है। इसके साथ ही आम गरीब वंचित और मजदूर वर्ग की विरोधी खोके की सरकार है। २० जनवरी से मुंबई में मनोज जरांगे की भूख हड़ताल शुरू हो रही है। जरांगे ने साफ कर दिया कि जब तक हम आरक्षण नहीं लेंगे, वापस नहीं जाएंगे। इस बारे में पूछे जाने पर सुप्रिया सुले ने कहा कि जरांगे ने सरकार को २० जनवरी तक की समय-सीमा दी है। अभी भी तीन हफ्ते बाकी हैं। आगे क्या होता है, देखते हैं।

सरकार में एक फुल, दो डाउनफुल!
देश की सरकार सिर्फ उद्योगपतियों का कर्ज माफ करती है, लेकिन उन्हें यहां की मेहनतकश जनता का दुख नजर नहीं आता। सरकार मुद्दों पर बात नहीं करती, इसलिए जनता के जरूरी मुद्दे भटक रहे हैं। पालक मंत्री मालिक मंत्री बन गए हैं। राज्य में एक फुल, दो डाउनफुल वाली सरकार है, ऐसा अमोल कोल्हे ने कहा।

अन्य समाचार