मुख्यपृष्ठनए समाचारयह तो न्यायालय का आदेश था, किसी पार्टी ने नहीं बनवाया मंदिर!......

यह तो न्यायालय का आदेश था, किसी पार्टी ने नहीं बनवाया मंदिर!… कंप्यूटर बाबा ने भाजपा को दिखाया आईना

सामना संवाददाता / ग्वालियर

अयोध्या में राम मंदिर का निर्माण न्यायपालिका के आदेश के बाद हुआ है, किसी पार्टी ने राम मंदिर को नहीं बनवाया है। मंदिर बनवाने के लिए साधु-संतों ने भी करोड़ों दान किए हैं। यह बात ग्वालियर पहुंचे कंप्यूटर बाबा ने राम मंदिर को लेकर कही।
कंप्यूटर बाबा ने स्पष्ट शब्दों में कहा कि एमपी में परिवर्तन की लहर चल रही है। राम मंदिर हमारा दिल है। राम मंदिर बनाने का फैसला न्यायपालिका का है और इसे कोई पार्टी नहीं बनवा रही है। पूरे सनातन और हिंदू समाज में राम मंदिर को लेकर हर्ष की लहर है। राम मंदिर बनने से देश की जनता और साधु-समाज खुश है। कंप्यूटर बाबा ने राम मंदिर उद्घाटन में बिना बुलाए जाने पर सहमति जताई और कहा कि जब मंदिर का भूमि पूजन हुआ था, तब चारों शंकराचार्यों में से किसी को नहीं बुलाया गया। कंप्यूटर बाबा ने कहा कि इस बार जनता की लहर कांग्रेस के साथ है और भाजपा इस बार ना तो किसी को खरीद पाएगी और ना ही रोक पाएगी। ईवीएम पर गड़बड़ी के सवाल पर उन्होंने साफ किया कि वह साधु हैं और वह प्रदेश भर में सिर्फ भ्रमण कर जनता का मन टटोल रहे हैं। ऐसे में वे उनके साथ हैं जो गौ माता और साधु-संतों की बात करते हैं। कंप्यूटर बाबा ने भाजपा छोड़ने के सवाल पर कहा कि गऊ माता और नर्मदा पर भाजपा अच्छा काम नहीं कर पाई इसलिए भाजपा को छोड़कर २०१८ में कांग्रेस की सरकार का साथ दिया। कंप्यूटर बाबा ने मध्य प्रदेश में कांग्रेस की सरकार बनने का दावा भी किया है।

अन्य समाचार