मुख्यपृष्ठराजनीतिथोरात ने स्वीकार की राधाकृष्ण विखे-पाटील की चुनौती: राजस्व मंत्री पद को...

थोरात ने स्वीकार की राधाकृष्ण विखे-पाटील की चुनौती: राजस्व मंत्री पद को लेकर दोनों नेताओं में भिड़ंत

राजन पारकर / मुंबई

हाल ही में राज्य के मंत्रिमंडल का विस्तार हुआ है। इस कैबिनेट में मंत्रियों को खाते आवंटित किए गए थे। देश के गृहमंत्री अमित शाह ने मंत्री राधाकृष्ण विखे पाटील पर भरोसा जताया और उन्हें राजस्व जैसा वजनदार विभाग दिया। इस बीच राजस्व मंत्री का लेखा-जोखा प्राप्त होने पर विखे पाटील ने कहा कि पिछली सरकार के दौरान राजस्व विभाग में किए गए कार्यों की जांच करने की आवश्यकता है। इसके बाद एक नया विवाद छिड़ गया है।
बता दें कि बालासाहेब थोरात और राधाकृष्ण विखे-पाटिल नगर जिले में पारंपरिक राजनीतिक विरोधियों के रूप में जाने जाते हैं। राधाकृष्ण विखे-पाटील को शिंदे-फडणवीस की `ईडी’ सरकार में राजस्व मंत्री का पद दिया गया है। विखे-पाटील ने जैसे ही राजस्व विभाग का कार्यभार संभाला, उन्होंने महाविकास आघाड़ी सरकार के कार्यकाल में लिए गए निर्णयों की जांच के संकेत दिए। महाविकास सरकार के कार्यकाल में राजस्व खाता कांग्रेस के वरिष्ठ नेता बालासाहेब थोरात के पास था। बालासाहेब थोरात ने विखे पाटिल की चुनौती को स्वीकार कर लिया है। राधाकृष्ण विखे पाटील को बहुत कम समय के लिए राजस्व मंत्री का पद मिला है। उन्हें अपने समय में अच्छा काम करना चाहिए। बालासाहेब थोरात ने कहा है कि अगर हमारे कार्यकाल के काम की जांच करनी है तो उसकी भी जांच होनी चाहिए।

अन्य समाचार