मुख्यपृष्ठटॉप समाचारनकली शिवसेना कहनेवालों, ये क्या मोदी की बोगस डिग्री है? ... अहंकारी...

नकली शिवसेना कहनेवालों, ये क्या मोदी की बोगस डिग्री है? … अहंकारी सरकार पर जनता चलाएगी बुलडोजर! … बोईसर में बीजेपी पर बरसे उद्धव ठाकरे

सामना संवाददाता / पालघर
युति सरकार में जब मनोहर जोशी मुख्यमंत्री थे, तब शिवसेनाप्रमुख ने वाढवण बंदरगाह का मुद्दा समाप्त कर दिया था, उसे पुन: किसने जीवित किया? पुन: उस निर्णय में किसने हवा भरी है? जनता के विरोध को महत्व न देकर यदि इस परियोजना को अमल में लाओगे तो मैं चुनौती देता हूं कि अमल में लाकर दिखाओ। जनता का बुलडोजर तुम्हारी सरकार पर चलाकर रहेंगे। ऐसी बुलंद गर्जना कल शिवसेनापक्षप्रमुख उद्धव ठाकरे ने पालघर में की। जनसागर को साक्षी मानकर जब उद्धव ठाकरे ने ‘एक ही जिद्द, वाढवण बंदरगाह रद्द’ का नारा दिया तो मौजूद जनसागर ने ‘शिवसेना जिंदाबाद…’, ‘उद्धव ठाकरे आगे बढ़ो हम तुम्हारे साथ हैं’, कौन आया रे कौन आया… शिवसेना का बाघ आया… इन नारों से बोईसर स्थित आंबट गोड मैदान गूंज उठा। इस दौरान शिवसेना को नकली कहकर गंदी टिप्पणी करनेवाले मोदी-शाह पर भी उद्धव ठाकरे ने निशाना साधा। उन्होंने कहा, शिवसेना को नकली कहनेवालों ये क्या वो मोदी की बोगस डिग्री है क्या? ऐसा सवाल उपस्थित करते हुए उद्धव ठाकरे ने कहा कि हमारा पक्ष तुम्हारे पक्ष जैसा डरपोक, भड़काऊ और भ्रष्ट पक्ष नहीं है। इसके आगे महाराष्ट्र में मोदी का नहीं, सिर्फ ठाकरे-पवार की तूती बोलेगी, ऐसा जबरदस्त विश्वास भी उद्धव ठाकरे ने इस दौरान व्यक्त किया।

पालघर लोकसभा से शिवसेना महाविकास आघाड़ी की उम्मीदवार भारती कामडी का प्रचार अभियान कल उद्धव ठाकरे की मौजूदगी में हुआ। इस मौके पर बोईसर स्थित आंबटगोड मैदान में उद्धव ठाकरे की धमाकेदार सभा संपन्न हुई। चिलचिलाती धूप में भी मैदान खचाखच भरा हुआ था। मैदान के चारों ओर की तीनों सड़कें शिवसैनिक और महाविकास आघाड़ी कार्यकर्ताओं के उत्साह से भरी हुर्इं थीं। महाराष्ट्र पर अन्याय कर रहे मोदी-शाह और भाजपा के खिलाफ इस भीड़ की मौजूदगी से उद्धव ठाकरे को विश्वास दृढ़ हो गया।
उद्धव ठाकरे ने कहा, १९९५ में मनोहर जोशी गठबंधन के मुख्यमंत्री थे। इसी बीच बंदरगाह के विस्तार की चर्चा शुरू हो गई। तब शिवसेनाप्रमुख ने मुझसे कहा, पालघर जाओ और लोगों से बात करो। जब मैंने यहां आकर लोगों से चर्चा की तो माताएं, बहनें, युवा, बुजुर्ग सभी ने तीव्र भावना व्यक्त की कि वे चाहें तो कुछ भी कर सकते हैं, हमें गोली मार सकते हैं, लेकिन यह विस्तार नहीं चाहते। जब मैंने यह बात शिवसेनाप्रमुख को बताई तो उन्होंने तुरंत मनोहर जोशी को फोन किया और वाढवण बंदरगाह को रद्द करने का आदेश दिया।’ उद्धव ठाकरे ने पूछा कि यह मुद्दा तब ही खत्म हो गया था, अब उस पैâसले में फिर से हवा क्यों भरी गई है? यह बंदरगाह किसके लिए बनाया जा रहा है? उद्धव ठाकरे ने भीड़ से इस सवाल का जवाब मांगा.. अगर विस्तार होगा तो गला किसका होगा? भीड़ से आवाज आई.. अडानी की.. फिर उद्धव ठाकरे ने कहा, बताओ मछुआरों का क्या होगा?..भीड़ से एक ही आवाज आई..तबाही.. तबाही और तबाही। इसी बात को आगे बढ़ाते हुए उद्धव ठाकरे ने आगे कहा, `इसलिए माता-पिता सावधान रहें… यदि आप इस चुनाव में विफल होते हो, तो वे चालाकी से वाढवण बंदरगाह विस्तार के आपके विरोध को नष्ट करने के लिए प्रयास करेंगे और वाढवण का विस्तार करेंगे… इसलिए यही वह समय है…!’

मोदी के परिवार में सिर्फ मोदी और उनकी कुर्सी
मेरा इनसे पुराना रिश्ता है… मेरा इनसे पुराना नाता है… ऐसे मीम्स सोशल मीडिया पर चलते रहते हैं। इसका जिक्र करते हुए उद्धव ठाकरे ने कहा, अब चुनाव से पहले, वे यहां भी आ सकते हैं और हाथ मिला सकते हैं और कह सकते हैं, भाइयों और बहनों… पालघर से मेरा बहो ऽऽऽता पुराना रिश्ता है… (ठहाकों की गूंज)। अगर रिश्ता है तो रिश्ता निभाओ.. सिर्फ मोदी परिवार कहने से काम नहीं चलेगा, क्योंकि मोदी जी आपके परिवार में आप और आपकी कुर्सी ही दो लोग हैं और कोई नहीं है, ऐसा तंज भी इस दौरान उद्धव ठाकरे ने कसा।

महाराष्ट्र में गद्दारों के दो मालिक घूम रहे हैं
इस समय चुनाव की हवा चल रही है और गद्दारों के मालिक महाराष्ट्र में घूम रहे हैं। जैसे ही उद्धव ठाकरे ने कहा कि पता है गद्दारों का मालिक कौन है, मोदी शाह..मोदी शाह.. भीड़ से आवाज गूंजी। उद्धव ठाकरे ने आगे कहा, मैंने पिछले दिनों प्रेस कॉन्प्रâेंस में साफ कर दिया था कि अब से मैं जो आलोचना करूंगा वह देश के प्रधानमंत्री पर नहीं, बल्कि नरेंद्र मोदी पर होगी। मैं देश के प्रधानमंत्री का अपमान नहीं करना चाहता.. ना ही करूंगा.. लेकिन वो चुनाव में आएंगे ही.. अरे आपका महाराष्ट्र से क्या संबंध है? आप एक बाहरी व्यक्ति हैं। भूमिपुत्रों के न्याय अधिकार के लिए महाराष्ट्र में जिस शिवसेना का जन्म शिवसेनाप्रमुख ने किया था, उसे तुम नकली कहते हो। नकली कहने को क्या वह तुम्हारी बोगस डिग्री हैं क्या? ऐसा सवाल भी उद्धव ठाकरे ने किया। उनकी रंगदारी पार्टी के दूसरे साथी आए अमित शाह.. वो भी बौखलाए..शिवसेना नकली है..बोलो तुम .. लेकिन मैं कहता हूं कि भारतीय जनता पार्टी लालची, कायर और भ्रष्ट लोगों की पार्टी है। देखिए आपकी कार में कितने वफादार हैं और यह भी देखिए कि कितने सौतेले भाई बैठे हैं, ऐसा तंज भी उद्धव ठाकरे ने इस दौरान कसा।

गद्दार यहीं से गए थे इसलिए पुन: पालघर आया हूं
बीजेपी की ईडी, इनकम टैक्स और बंदूक लगाकर हमारे बीच के गद्दारों को तोड़ दिया और पालघर से ही गुजरात ले गए। इसलिए पुन: पालघर आया हूं… देखते हैं अब कौन भागता है ऐसी चेतावनी भी उद्धव ठाकरे ने दी।

अन्य समाचार