मुख्यपृष्ठसमाचारजम्मू में राहुल गांधी की भारत जोड़ो यात्रा का गर्मजोशी से स्वागत...

जम्मू में राहुल गांधी की भारत जोड़ो यात्रा का गर्मजोशी से स्वागत करने उमड़े हजारों लोग

जम्मू। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता राहुल गांधी की भारत जोड़ो यात्रा ने सोमवार की दोपहर जब निकटवर्ती सांबा जिले से शीतकालीन राजधानी जम्मू में प्रवेश किया तो लोगों ने गर्मजोशी के साथ उनका स्वागत किया और भारी भीड़ देखते हुए सुरक्षा अधिकारियों ने उनके चारों ओर सुरक्षा घेरा और मजबूत कर दिया। यात्रा सांबा के विजयपुर से जम्मू-पठानकोट राजमार्ग से सोमवार सुबह लगभग ७ बजे शुरू हुई। इससे पहले, अधिकारियों ने कहा कि यात्रा के लिए सभी आवश्यक प्रबंध किए गए हैं, जो ७ सितंबर को कन्याकुमारी से शुरू हुई और ३० जनवरी को जम्मू और कश्मीर की ग्रीष्मकालीन राजधानी श्रीनगर में समाप्त होगी। राहुल गांधी अपनी कांग्रेस पार्टी के श्रीनगर के लाल चौक स्थित मुख्यालय में राष्ट्रीय ध्वज फहराएंगे और वहां एक मेगा रैली को संबोधित कर यात्रा की परिणति को चिह्नित करेंगे।
`नफरत छोड़ो, भारत जोड़ो’ के नारों के बीच, यात्रा ने जम्मू के कालूचक्क में गांधी परिवार के वंशज के चारों ओर सुरक्षा घेरे में बड़ी संख्या में पुलिसकर्मियों को देखा गया, क्योंकि यह यात्रा जनसभा स्थल सतवारी चौक की ओर बढ़ रही थी। गांधी ने रात्रि विश्राम के लिए सिद्धडा जाने से पहले सतवारी चौक पर एक सभा को संबोधित किया।
मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह, कांग्रेस महासचिव (संगठन) के सी वेणुगोपाल, एआईसीसी संचार प्रभारी जयराम रमेश, जम्मू-कश्मीर कांग्रेस प्रमुख विकार रसूल वानी, उनके पूर्ववर्ती जी ए मीर, कार्यकारी अध्यक्ष रमन भल्ला और पूर्व मंत्री तारिक हामिद कर्रा यात्रा में शामिल हुए। उनके साथ बड़ी संख्या में पार्टी कार्यकर्ता और समर्थक तिरंगे के साथ चल रहे थे। हजारों की संख्या में लोग कुंजवानी में मार्च की अगवानी करने के लिए जमा हुए हैं, जहां पीपुल्स डेमोक्रेटिक पार्टी (पीडीपी) के महासचिव (केंद्रीय) एस अमरीत सिंह रीन के नेतृत्व में एक बड़ा प्रतिनिधिमंडल यात्रा में शामिल होने का इंतजार कर रहा था। पीडीपी के वरिष्ठ नेता और पूर्व विधायक फिरदौस अहमद टाक ने कहा, `हम गांधी का समर्थन करने आए हैं, जो देश में एकता को मजबूत करने और नफरत को दूर करने के संदेश के साथ आगे बढ़ रहे हैं।’ उन्होंने कहा कि देश की सुंदरता `विविधता में एकता’ है और देश के सामाजिक ताने-बाने पर `सत्तारूढ़ व्यवस्था द्वारा बड़े पैमाने पर हमले’ को देखते हुए इस तरह की पहल समय की मांग थी। उन्होंने कहा, `गांधी देश भर में अपने संदेश को शक्तिशाली तरीके से पहुंचाने में सक्षम थे और जो लोग यात्रा में भाग नहीं ले पा रहे थे, वे भी उनके संदेश की सराहना कर रहे हैं।’ कांग्रेस के कार्यकारी अध्यक्ष ने यात्रा को मिली जबरदस्त प्रतिक्रिया के लिए लोगों को धन्यवाद दिया। `न केवल कांग्रेसी बल्कि आम लोग यात्रा में शामिल हो रहे हैं और गांधी द्वारा देश में व्याप्त विभाजनकारी राजनीति पर उठाई गई चिंताओं को साझा कर रहे हैं।’ उन्होंने कहा कि लोग गांधी से बहुत खुश हैं जो उनकी समस्याओं को सुन रहे हैं जो बहुत महत्वपूर्ण है। उन्होंने कहा, `पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी को कश्मीर की बेटी के रूप में जाना जाता था और उनके पोते पदयात्रा कर रहे हैं। कश्मीर के विभिन्न मुद्दे हैं और सबसे महत्वपूर्ण पूर्ण राज्य का दर्जा और चुनाव कराने सहित हमारे अधिकारों की बहाली है।’ इससे पहले सांबा में सुबह की ठंड के बावजूद अपनी ट्रेडमार्क सफेद टी-शर्ट पहनकर चलनेवाले गांधी का सड़क के दोनों ओर बड़ी संख्या में इंतजार कर रहे लोगों और पार्टी कार्यकर्ताओं ने स्वागत किया। कुछ जगहों पर उन्हें उत्साही समर्थकों से हाथ मिलाने के लिए सड़क के किनारे जाते देखा गया, जिससे सुरक्षाकर्मियों को काफी चिंता हुई। ट्रैफिक पुलिस ने सोमवार और मंगलवार के लिए विस्तृत एडवाइजरी जारी की है ताकि शहर में राजमार्ग और अन्य लिंक सड़कों पर यातायात की सुचारू आवाजाही सुनिश्चित की जा सके।
जम्मू शहर के बाहरी इलाके नरवाल इलाके में शनिवार को हुए दो बम विस्फोटों के मद्देनजर पूरे केंद्र शासित प्रदेश में सुरक्षा बढ़ा दी गई है। विस्फोट संदिग्ध आतंकवादियों द्वारा शुरू किए गए थे, जिन्होंने गांधी के नेतृत्व वाली यात्रा और गणतंत्र दिवस समारोह से पहले कड़ी सुरक्षा व्यवस्था के बावजूद इस कारनामे को अंजाम दिया था।

अन्य समाचार