मुख्यपृष्ठनए समाचारमहाराष्ट्र में तीन घासीराम कोतवाल चला रहे हैं सरकार

महाराष्ट्र में तीन घासीराम कोतवाल चला रहे हैं सरकार

-संजय राऊत का जोरदार हमला- नैतिकता पर बोलने का नहीं है अधिकार

सामना संवाददाता / मुंबई

महाराष्ट्र में घासीराम कोतवाल का राज शुरू है और तीन घासीराम कोतवाल सरकार को चला रहे हैं। इसलिए उन्हें नैतिकता पर बोलने का अधिकार नहीं है। उनके मंत्रिमंडल में करीब सभी मंत्रियों पर भ्रष्टाचार के आरोप और मामले चल रहे हैं। ये लोग उंगलियां उठा रहे हैं। इस तरह का जोरदार हमला शिवसेना (उद्धव बालासाहेब ठाकरे) नेता, सांसद संजय राऊत ने किया।
मीडिया से बात करते हुए संजय राऊत ने कहा कि पेशवा काल में घासीराम कोतवाल पर पुणे में कानून और व्यवस्था की जिम्मेदारी थी। लेकिन उनके कार्यकाल पर नजर डालें, तो उनके काल में लूट-पाट, डकैती, कानून-व्यवस्था की अव्यवस्था थी। वही लूटपाट करता था, डाका डालकर पैसे और सबकुछ मालिकों तक पहुंचा देता था। घासीराम कोतवाल नाटक महाराष्ट्र में भी लोकप्रिय था। घासीराम कोतवाल एक विधर्मी व्यक्ति था। राऊत ने हमला बोलते हुए कहा कि आज राज्य में घासीराम कोतवाल का शासन है।
कल सामना में छपी ‘भाजपा की नैतिकता का ऑडिट’ संपादकीय से भाजपा की नैतिकता का ऑडिट कराने की मांग की गई है। इस संपादकीय की हर तरफ चर्चा होते समय सांसद संजय राऊत ने मीडिया से बात करते हुए इस पर प्रतिक्रिया दी। इकबाल मिर्ची के साथ संबंध रखनेवाले प्रफुल्ल पटेल आपकी कैबिनेट में कैसे हैं? इस तरह के सवाल भाजपा ने ही यूपीए सरकार से पूछा था। लेकिन आज प्रफुल्ल पटेल उनके साथ बैठे हैं। नवाब मलिक नहीं चल सकते, तो प्रफुल्ल पटेल कैसे चल सकते हैं? कानून, नैतिकता, देशभक्ति की बात करते हैं, फिर नवाब मलिक के लिए देशभक्ति की परिभाषा अलग और प्रफुल्ल पटेल के लिए अलग है क्या? इस तरह का सवाल संजय राऊत ने उठाया। उन्होंने तंज कसा कि तुम मार खाने जैसा और मैं रोने जैसा व्यवहार करता हूं, ऐसा ढोंग शुरू है, जिसे बंद कर दो।
भारतीय जनता पार्टी छाती फटने तक नैतिकता का गुब्बारा फुगाती है। लेकिन क्या उनके पास नैतिकता दवा जितनी भी बची है? भाजपा की नैतिकता का ऑडिट होना चाहिए। नवाब मलिक मामले में देवेंद्र फडणवीस ने पत्र लिखने का नाटक किया वो प्रफुल्ल पटेल के बारे में क्यों नहीं? दोनों का अपराध एक जैसा है।
२०२४ के बाद चली जाएगी महाराष्ट्र और देश को लगी पनौती
शिवसेना को बची हुई सेना कहनेवाले फडणवीस भी २०२४ को बचे रहेंगे क्या, इसका विचार करो। इस तरह का तंज कसते हुए शिवसेना (उद्धव बालासाहेब ठाकरे) पक्ष के नेता, सांसद संजय राऊत ने हमला बोलते हुए कहा कि २०२४ के बाद महाराष्ट्र और देश को लगी शत प्रतिशत पनौती चली जाएगी। उन्होंने यह भी कहा कि जिस तरह साढ़ेसाती चली गई है, ठीक उसी तरह पनौती भी जाएगी। उक्त बातें पुणे के महात्मा फुले मैदान पर आयोजित सभा में सांसद संजय राऊत बोल रहे थे।

अन्य समाचार