" /> घर वापसी के लिए पढ़ना होगा कलमा!

घर वापसी के लिए पढ़ना होगा कलमा!

मौलाना कादरी का फरमान
बंगाली अभिनेत्री और टीएमसी सांसद नुसरत जहां पिछले कुछ दिनों से सुर्खियों में छाई हुई हैं। उनकी तुर्की में हुई शादी को अमान्य बताए जाने के बाद लोग तरह-तरह की प्रतिक्रिया दे रहे हैं। अब नुसरत की शादी अमान्य होने की बात को मौलाना कारी मुस्तफा देहलवी ने सही बताया है। उनके मुताबिक, नुसरत जहां का यह कहना कि दो धर्मों के बीच शादी हुई और वो शादी, शादी नहीं थी। वह सही कह रही हैं। अगर दो धर्मों के बीच शादी हुई, या तो उनको जिससे उन्होंने शादी की, उसके धर्म के मुताबिक शादी करनी चाहिए थी या फिर इस्लाम में दाखिल करके, इस्लाम के मुताबिक शादी करनी चाहिए थी। यह शादी, शादी नहीं बल्कि नाजायज ताल्लुकात थे और तौबा का दरवाजा सभी के लिए खुला हुआ है। अब वह तौबा करवा कर कलमा पढ़ें और ईमान में दाखिल हो जाएं!
गौरतलब है कि नुसरत जहां ने हाल ही में एक बयान जारी कर बिजनेसमैन निखिल जैन संग अपनी शादी को अमान्य बताया है। नुसरत ने कहा कि उनकी और निखिल की शादी हिंदुस्थान में रजिस्टर नहीं हुई थी इसलिए यह शादी मान्य नहीं है। ऐसे में नुसरत जहां की शादी और उससे जुड़ी बातों पर विवाद खड़ा हो गया है। हालांकि, अपनी शादी के वक्त नुसरत और निखिल ने मीडिया के सामने आकर खुद बताया था कि कैसे दोनों की मुलाकात हुई थी। साथ ही दोनों ने शादी की तैयारियों के बारे में बताया था। निखिल ने कहा था कि नुसरत मेरे ब्रांड रंगोली के लिए एम्बेसडर थीं और वहीं से हमारी दोस्ती हुई। फिर हम दोनों डेट करने लगे थे। वहीं, नुसरत ने कहा था कि शादी के लिए दोनों उत्साहित हैं लेकिन दोनों ही काम में भी व्यस्त है। ऐसे में उन्हें दुल्हन वाली फीलिंग नहीं आ रही, जिसकी शिकायत वह निखिल से करती हैं। निखिल की बात करें तो नुसरत के शादी को अमान्य बताने के बाद उन्होंने भी खुलासे किए हैं। निखिल के मुतबिक जब वह शादी को रजिस्टर करने की बात कहते थे तो वह इसे नजरअंदाज कर देती थीं।