मुख्यपृष्ठनए समाचार‘आईएनएस विक्रांत’ निधि घोटाले के बाद अब सोमैया का निकालेंगे रु. १००...

‘आईएनएस विक्रांत’ निधि घोटाले के बाद अब सोमैया का निकालेंगे रु. १०० करोड़ का टॉयलेट घोटाला! शिवसेना सांसद संजय राऊत ने दी चेतावनी

सामना संवाददाता / मुंबई। ‘आईएनएस विक्रांत’ को बचाने के लिए जमा किए गए चंदा मामले में जमानत को खारिज करते हुए सत्र न्यायालय ने किरीट सोमैया पर बेईमानी का आरोप लगाया है। ५८ करोड़ रुपए के इस कथित घोटाले का अभी तक किरीट सोमैया हिसाब नहीं दे सके हैं। वहीं विक्रांत घोटाले के बाद सोमैया और उनके परिवार के ‘युवा प्रतिष्ठान’ द्वारा किए गए १०० करोड़ रुपए के टॉयलेट घोटाले का हम पर्दाफाश करेंगे। यह सनसनीखेज खुलासा शिवसेना सांसद संजय राऊत ने कल किया। उन्होंने चेतावनी भरे लहजे में कहा कि यह टॉयलेट घोटाला महाराष्ट्र में बदबू पैâलाएगा। शिवसेना सांसद राऊत के इस बयान से भाजपा में हड़कंप मच गया है।

शिवसेना सांसद संजय राऊत ने मीडिया से विभिन्न विषयों पर बात की। इस दौरान उन्होंने टॉयलेट घोटाले की जानकारी दी। किरीट सोमैया ने मीरा-भायंदर मनपा और महाराष्ट्र में कहीं और शौचालय घोटाला किया है। ये लोग विक्रांत से लेकर शौचालय तक का घोटाला करते हैं। इस घोटाले के सारे दस्तावेज सौंप दिए गए हैं। सोमैया परिवार युवा प्रतिष्ठान नामक स्वयंसेवी संस्था चलाता है। इस संस्था ने सैकड़ों करोड़ रुपए का टॉयलेट घोटाला किया है। इस घोटाले के दस्तावेज देखकर हमें हंसी आ गई है क्योंकि फर्जी बिल, पर्यावरण का मजाक उड़ाकर घोटाले किए गए हैं। बिल जमाकर पैसे वैâसे निकाले गए, यह घोटाला हम बाहर निकालने जा रहे हैं। टॉयलेट गंदा रखनेवाले लोग अब टॉयलेट घोटाले के दस्तावेज मांगेंगे। हालांकि दस्तावेज कहां हैं, वह उन्हें भी पता है। श्रीमती सोमैया, उनके बेटे और ‘युवा प्रतिष्ठान’ ने यह घोटाला किया है। अब उन्हें केवल खुलासा करते रहना है, ऐसा संजय राऊत ने कहा है।

आरोपी पर कौन विश्वास रखेगा?
किरीट सोमैया द्वारा लगाए जा रहे आरोपों के बारे में पूछे जाने पर उन्होंने कहा कि पाकिस्तान में बैठा दाऊद इब्राहिम महाराष्ट्र में घोटालों का पर्दाफाश करना शुरू कर दे तो उस पर कौन विश्वास करेगा? कारण दाऊद एक अपराधी है। दाऊद इब्राहिम को जैसे आतंकवाद पर बात नहीं करनी चाहिए, उसी तरह ‘आईएनएस विक्रांत’ जैसे राष्ट्रीय मुद्दों पर घोटाला करने, लोगों की भावनाओं से खेलनेवालों को दूसरों पर झूठे आरोप लगाना अनुचित है क्योंकि लोग उन पर विश्वास नहीं करेंगे। पहले आप विक्रांत की निधि का हिसाब दो, विक्रांत के लिए जमा की गई उस राशि का क्या हुआ? ऐसा सवाल भी राऊत ने उपस्थित किया।

इसलिए न्यायपालिका खतरे में है
जिन बातों को हम पुलिस और प्रशासन से नहीं करवा सकते हैं, वह हम अदालतों से करवा लेते हैं। न्यायालय में हमारा वजन है, यह बयान भाजपा विधायक संजय कुटे ने दिया है। इस बयान की भी संजय राऊत ने कड़े शब्दों में निंदा की। बीते कुछ समय से भाजपा के कुछ लोगों को न्यायालय से बार-बार राहत मिल रही है। यह किसका वजन है, सहज दिखा रहा है। कारण दिशा सालियन मामले से लेकर मुंबई बैंक और ‘आईएनएस विक्रांत’ निधि गबन मामले में आरोपी किरीट सोमैया तक सभी को लगातार राहत वैâसे मिली? यह सवाल उठाते हुए उन्होंने आगे कहा कि न्याय व्यवस्था पर किसी का दबाव है क्या, अथवा न्याय व्यवस्था में इस तरह राहत देने के लिए विशेष लोगों को बैठाया गया है क्या, और क्या वे किसी के निर्देश पर काम कर रहे हैं? लेकिन यदि यह इसी तरह चलता रहा तो देश की स्वतंत्रता, लोकतंत्र और न्याय व्यवस्था को खतरा होगा। न्याय के देवता ने भले ही अपनी आंखों पर पट्टी बांधी हो, लेकिन आंखों पर बंधी पट्टी में एक छेद है। उससे वे अपने विचारों के लोगों को देख रहे थे। इस तरह सांसद राऊत ने अफसोस भी जताया।

महाराष्ट्र में पैâलेगी बदबू
उन्होंने कहा कि आप हम पर कितनी भी बार हमला करो, फुस्की बम छोड़ो, लेकिन हमने जो सवाल पूछे हैं, उसके जवाब दो। विक्रांत पर जवाब नहीं दे सके, लेकिन सत्र न्यायालय के पूछे गए सवालों का तो जवाब दो। जमानत खारिज करते हुए सत्र न्यायालय ने तुम पर बेईमानी का आरोप लगाया है। विक्रांत को लेकर जनता से लिए गए चंदे की राशि को जमा नहीं किया गया है, यह राजभवन ने भी स्पष्ट किया है। किस खबर की कटिंग के आधार पर किरीट सोमैया के खिलाफ यह मामला दर्ज नहीं हुआ है। अब आईएनएस विक्रांत की तरह ही इतने सारे टॉयलेट घोटाला भी महाराष्ट्र में बदबू पैâलानेवाले हैं। उन्होंने संवाददाताओं से कहा कि ये इलू इलू क्या है, की तरह टॉयलेट घोटाला क्या है, यह किरीट सोमैया से आप पूछो।

सटीक लगता है हमारा निशाना
पीएमसी बैंक घोटाले में राकेश वाधवान की जमीन वास्तव में किरीट सोमैया के बेटे नील सोमैया को ही वैâसे मिली? इसका भी जवाब देना पड़ेगा। क्योंकि राकेश वाधवान पर दबाव डालकर तुमने वह जमीन ली है। उस पर तुम्हारे बेटे ने सैकड़ों करोड़ रुपए के प्रोजेक्ट लगाए हैं, जिसकी जांच आर्थिक अपराध शाखा कर रही है। इसकी अब जांच शुरू हो चुकी है। ऐसे कई घोटाले सामने आएंगे। इन घोटालों से ध्यान भटकाने के लिए विक्रांत घोटाले के आरोपी किरीट सोमैया हवाई फायरिंग कर रहे हैं। लेकिन हमारा भी निशाना सटीक रहता है। ऐसा तीव्र प्रहार संजय राऊत ने किया।

भाजपा के आरोप हो रहे विफल
भाजपा और मनसे ने शरद पवार पर टिप्पणी करना शुरू कर दिया है। इस संबंध में पूछे गए सवाल का जवाब देते हुए उन्होंने कहा कि सरकार नहीं गिर रही है, न ही गिरेगी और अगले २५ साल तक महाराष्ट्र में भाजपा को सत्ता नहीं मिलेगी। इस निराशा के कारण भाजपा की तरफ से आरोप लगाए जा रहे हैं। महाविकास आघाड़ी इन आरोपों का सामना करने के लिए तैयार है।

टॉयलेट घोटाले पर भी ट्वीट करो
विपक्ष के नेता देवेंद्र फडणवीस ने राकांपा अध्यक्ष शरद पवार पर आलोचनात्मक १४ ट्वीट किए। उसका उल्लेख करते हुए संजय राऊत ने कहा कि किरीट सोमैया के टॉयलेट घोटाले को बाहर निकालूंगा, उस पर देवेंद्र फडणवीस बोलें। क्योंकि उन्हें भ्रष्टाचार से बहुत लगाव है। उनकी और भाजपा की देशभक्ति बहुत ऊंची है। इसलिए ऐसा ही ट्वीट आईएनएस विक्रांत निधि और मेरे द्वारा बाहर निकाले जानेवाले टॉयलेट घोटाले पर भी करें।

अन्य समाचार