मुख्यपृष्ठनए समाचारटोल का टेंशन और बढ़ेगा!

टोल का टेंशन और बढ़ेगा!

-अब मुंबई एंट्री पॉइंट्स पर हल्के वाहनों को देने होंगे `४५
-तकरीबन १९ फीसदी तक बढ़ाई गईं टोल की दरें

सामना संवाददाता / मुंबई

पहले से महंगाई की मार झेल रही जनता पर एक और महंगाई की मार पड़ने वाली है। आगामी कुछ दिनों में मुंबई में घुसना महंगा हो जाएगा। जानकारी के मुताबिक, १ अक्टूबर से मुंबई के पांच एंट्री प्वाइंट पर टोल दरें १२.५०-१८.७५ प्रतिशत तक बढ़नेवाली हैं। पांच एंट्री प्वाइंट में दहिसर, एलबीएस रोड-मुलुंड, ईस्टर्न एक्सप्रेस हाईवे-मुलुंड, ऐरोली क्रीक ब्रिज और वाशी का समावेश है। हल्के मोटर वाहनों या यात्री कारों के लिए टोल ५ रुपए महंगा होगा, यानी ४० रुपए से ४५ रुपए। मिनी बसों के लिए, टोल मौजूदा ६५ रुपए से बढ़कर ७५ रुपए हो जाएगा।
राज्य सरकार की अधिसूचना से पता चला है कि ट्रकों और बसों को १५० रुपए का भुगतान करना होगा, जबकि मल्टी-एक्सल वाहनों से १९० रुपए का शुल्क लिया जाएगा। मुंबई के इन प्रवेश प्वाइंट पर टोल सितंबर २००२ से लगाया गया है और २०१० में इसे बढ़ा दिया गया था। यह शुल्क नवंबर २०२६ तक जारी रहेगा। टोल संशोधन हर तीन साल में होता है। पिछला संशोधन १ अक्टूबर, २०२० को हुआ था और अगला १ अक्टूबर, २०२६ को होगा। नियमित रूप से टोल नाकों को पार करनेवालों के लिए यह दूसरी महंगाई के मार की तरह साबित होगा।
२०१० में, टोल कलेक्ट करने वाली कंपनी ने महाराष्ट्र राज्य सड़क विकास निगम (एमएसआरडीसी) द्वारा किए गए खर्च के लिए २,०० करोड़ रुपए का अग्रिम भुगतान किया था। बदले में, निजी कंपनी एमएसआरडीसी को भुगतान करते समय उधार, प्रशासनिक, परिचालन, रखरखाव और अन्य लागतों सहित इसकी वसूली कर रही है। हालांकि, २०२६ के बाद दहिसर, एलबीएस रोड-मुलुंड, ईस्टर्न एक्सप्रेस हाईवे-मुलुंड और ऐरोली क्रीक ब्रिज पर टोल लेवी बंद हो जाएगी, लेकिन नए ठाणे क्रीक ब्रिज पर और वाशी में निर्माण लागत वसूलना जारी रहेगा। इसके अतिरिक्त नए मुंबई ट्रांस हार्बर लिंक का उपयोग करने पर भी टोल लगेगा।

अन्य समाचार