" /> सिरदर्द सताए शिरशूलादिवङ्का रस व गोदंती मिश्रण वटी की गोली खाएं

सिरदर्द सताए शिरशूलादिवङ्का रस व गोदंती मिश्रण वटी की गोली खाएं

 तीन महीने पहले पेशाब में खून आया था। दवा लेने से खून बंद हो गया। लेकिन पेशाब में जलन रहती है। मूत्र परीक्षण में आरबीसी प्लस प्लस, प्रोटीन प्लस दिखाई देता है। मुझे दवा बताएं?
– सुजय, पनवेल, नई मुंबई
पेशाब में खून आना, आरबीसी प्लस प्लस, प्रोटीन प्लस होना कई कारणों से हो सकता है। आप अपना मूत्र परीक्षण, पेट का एक्सरे तथा सोनोग्राफी करवाएं। इसी परीक्षण के आधार पर चिकित्सा की जाती है। चंद्रप्रभा वटी एवं गोक्षुरादि गुग्गुल की दो-दो गोलियां दिन में ३ बार पानी के साथ ले। वरुणादि क्वाथ एवं पुनर्नवादि क्वाथ दोनों तीन-तीन चम्मच लेकर सम प्रमाण पानी मिलाकर दो बार भोजन के बाद लें। धनिया दो चम्मच एक गिलास पानी में रात को भिगाकर ६ से ८ घंटे के लिए रखें, सुबह उसे मसलकर और छानकर दिन में १ बार सुबह पिएं। यह धनिया का पानी मूत्र मार्ग संक्रमण में काफी प्रभावी औषधि है। इससे पेशाब की जलन कम हो जाती है। मिर्च मसाला, चाइनीज, मांसाहारी व गर्म चीजें कम खाएं। भोजन के साथ छास पिएं। पीने के पानी की मात्रा बढ़ाएं।
 मेरी उम्र ४२ वर्ष है। पिछले तीन-चार वर्षों से मुझे सिर दर्द की शिकायत है, कई बार दर्द असहनीय हो जाता है और चक्कर जैसा लगता है। यह तकलीफ दो-तीन दिन तक बनी रहती है। दवा बताएं?
– आर.डी. गुप्ता, खिंडिपाड़ा, मुलुंड
सिर दर्द के अनेक कारण हो सकते हैं। प्राथमिक जांच के रूप में आप अपना रक्तदाब, मधुमेह खून की जांच व आंखों की भी जांच कराएं। मलबद्धता शौच का साफ न होना, गैस बनना भी सिरदर्द का कारण होता है। व्यवसाय के कारण तनाव ज्यादा श्रम, द्रव आहार व पानी का कम सेवन और अनियमित आहार, अनियमित निद्रा, गुटखा, तंबावूâ, बीड़ी, सुपारी आदि का सेवन सिर दर्द की तीव्रता को बढ़ा देते हैं। इसे तुरंत बंद करें। शिरशूलादिवङ्का रस एक-एक गोली, गोदंती मिश्रण वटी दो-दो गोली दिन में तीन बार, पथ्यादि क्वाथ ४-४ चम्मच दिन में दो बार सम प्रमाण पानी मिलाकर पीएं। रात को सोते समय पंचसकार चूर्ण एक चम्मच गर्म पानी के साथ में लें। यह दवा आप नियमित दो महीने तक लेते रहें। आपको पूरी तरह आराम हो जाएगा। धूप एवं आग के सामने काम करने से बचें। आंखों को आराम देने के लिए काला चश्मा या गॉगल पहने। खाली पेट न रहें। मिर्च, मसाला, तीखा, जंक पूâड आदि खाद्य पदार्थों का त्याग करें।
 कुछ दिनों से मेरे मुंह से बहुत गंदी बदबू आती है। ब्रश करने पर खून भी आ जाता है। दवा बताएं?
– केदारनाथ, सांताव्रुâज
मुंह से बदबू आने के कई कारण हो सकते हैं। मुख की स्वच्छता आवश्यक है। आप अपने पैâमिली डॉक्टर से मिलकर अपना परीक्षण करवाएं। मुख की अस्वच्छता एवं पायरिया यह दोनों कारण प्राय बहुतांश में देखा जाता है। आप ब्रश का उपयोग न करें। ब्रश के कारण कई बार मसूड़ों में घाव हो जाता है। प्रत्येक भोजन के बाद या नाश्ते के बाद सादे पानी का कुल्ला व गरारा कर मुख को साफ रखने की कोशिश करें। नीम की दातुन या दंत मंजन आपके लिए काफी मददगार होंगे। मुंह में यष्टिमधु की लकड़ी रखकर चूसे। बाजार में कई किस्म के माउथ प्रेâशनर उपलब्ध हैं, आप उनका इस्तेमाल कर सकते हैं। त्रिफला गुग्गुल की दो-दो गोली दो बार तथा यष्टिमधु घन की एक-एक गोली दो बार गर्म पानी से लें। प्रâाइड वस्तुएं न खाएं। नियमित रूप से मुंह मे माउथ प्रेâशनर, यष्टिमधु की लकड़ी, लवंग रख कर दो २ घंटे के अंतराल में चूसते रहें।

एम.डी., पीएच.डी. (आयुर्वेद) प्राध्यापक व वरिष्ठ चिकित्सक, केजी मित्तल पुर्नवसु आयुर्वेद महाविद्यालय व अस्पताल, चर्नी रोड, मुंबई-०२