मुख्यपृष्ठसमाज-संस्कृति१,०४७ किमी के सफर पर ‘टूर ऑफ धोलावीरा'!

१,०४७ किमी के सफर पर ‘टूर ऑफ धोलावीरा’!

सामना संवाददाता / मुंबई

अपने आपको फिट रखने के लिए साइकिल चलाना काफी बेहतर विकल्प है। हरित और स्वस्थ भविष्य का संदेश को प्रभावशाली तरीके से लोगों के बीच में पहचान बनाने के उद्देश्य से  समार्ट कम्यूट फाउंडेशन ने ‘टूर ऑफ धोलावीरा’ की शुरुआत की है। इस यात्रा से प्रकृति को करीब से देखने का मौका मिलेगा और प्रदूषण मुक्त यात्रा का आंनद मिलेगा।
दो भारतीय साइकिलिस्ट, मुंबई की पहली साइकिल मेयर फिरोजा दादन और साइकिलिस्ट पंकज पाटिल ने इस अभियान की मुंबई से शुरुआत की है। यह यात्रा मुंबई से धोलावीरा, गुजरात तक १,०४७ किलोमीटर की दूरी तक होगी और इसमें चम्पानेर, अमदाबाद पुराने शहर-रानी का वाव-धोलावीरा की यूनेस्को स्थलों को शामिल किया गया है। यह यात्रा २८ जनवरी, २०२४ से शुरू होकर फरवरी के दूसरे सप्ताह के अंत तक गुजरात के धोलावीरा में पूरी होगी। समार्ट कम्यूट फाउंडेशन की इस पहल को इंडियन ऑयल कॉर्पोरेशन लिमिटेड और कुछ और ट्रेड संगठनों का सहयोग मिला है।
‘टूर ऑफ धोलावीरा’ का मुख्य उद्देश्य है हर व्यक्ति और संगठन को स्वस्थ लाइफस्टाइल की तरफ आकर्षित करना। इस यात्रा से इको-टूरिज्म को बढ़ावा देना, साथ ही यह जागरूकता फैलाना कि हमें पर्यटनस्थल के आस-पास के वातावरण का ध्यान रखना चाहिए। फिरोजा दादन मुंबई की पहली साइकिल मेयर और स्मार्ट कम्यूट फाउंडेशन की निदेशक हैं। ‘टूर ऑफ धोलावीरा’ में उनका साथ साइकिलिस्ट पंकज पाटिल दे रहे हैं, जो एक निवेशक बैंकर और एक पैशनेट साइकिलिस्ट हैं। इस चुनौतीपूर्ण साइकिलिंग यात्रा पर फिरोजा दादन ने कहा कि मैं टूर ऑफ धोलावीरा’ का हिस्सा बनकर बहुत उत्साहित हूं, क्योंकि यह मेरे लिए सिर्फ एक यात्रा नहीं है, बल्कि पूरी दुनिया के लिए एक हरित और स्वस्थ भविष्य का संदेश देने का एक अवसर है। साइकिलिंग सिर्फ एक खेल नहीं बल्कि एक जीवनशैली और माइंडसेट है।’ इस मौके पर इस यात्रा के दूसरे साइकलिस्ट पंकज पाटिल ने कहा कि ‘साइकिलिंग का एक अलग आनंद हैं, जब हम पैडल चलाते हुए एक नए बड़े सफर में दृश्यों को देखते हुए चलते हैं, यह एक कभी नहीं भूलने वाला अनुभव होता है। हर किसी को एक ऐसी सतत यात्रा के बारे में योजना बनाना चाहिए। गुजरात के धोलावीरा टूर एक सांस्कृतिक धरोहर पहुंचकर पर्यावरण के प्रति सतर्कता को मिलाने का एक अवसर है।’ श्री एम वैद्य, चेयरमैन, इंडियन ऑयल कॉर्पोरेशन लिमिटेड ने कहा, ‘टूर ऑफ धोलावीरा’ से जुड़ना बहुत ही सुखद अनुभव है। इस साइकिल यात्रा के द्वारा हम विश्व के अन्य साथी संगठनों के साथ पर्यावरण संरक्षण के दृष्टिकोण को साझा करना चाहते हैं।’ इस अवसर पर इंडियन ऑयल के कार्यकारी निदेशक (मानव संसाधन) मुकेश रंजन दास ने कहा, ‘हम लोग ‘टूर ऑफ धोलावीरा’ की इस यात्रा से बहुत खुश हूं, क्योंकि यात्रा के लिए यह सबसे जरूरी वैकल्पिक साधन है। मैं दोनों साइकिलिस्टों को शुभकामना देता हूं, साथ ही इस कठिन यात्रा पर सफलता की कामना करता हूं।

अन्य समाचार