मुख्यपृष्ठसमाचारतुंगारेश्वर में बढ़ेगी पर्यटन सुविधा!

तुंगारेश्वर में बढ़ेगी पर्यटन सुविधा!

•  धार्मिक स्थलों को विकसित कर रही है राज्य सरकार
• एक करोड़ रुपए की धनराशि हो गई है मंजूर
रवींद्र मिश्रा / वसई
महाराष्ट्र में जब से महाविकास आघाड़ी की सरकार आई है, तभी से यहां के पर्यटन स्थल तथा धार्मिक स्थलों के विकास कार्यों को गति देने का काम शुरू कर दिया गया है। महाराष्ट्र के पालघर जिला अंतर्गत आनेवाले तुंगारेश्वर के विकास को चरणबद्ध तरीके से विकसित करने का प्रयास शुरू किया गया है। तुंगारेश्वर अभयारण्य के आरएफओ संदीप चौरे के अनुसार यहां के विकास के लिए सरकार ने एक करोड़ रुपए की धनराशि की मंजूरी दी है। ८५वर्ग किलोमीटर में फैला यह वन्य क्षेत्र अपनी प्राकृतिक सौंदर्य के कारण पर्यटकों के लिए आकर्षण का केंद्र है। बरसात के दिनों में पहाड़ों से निकलते पानी के झरने पर्यटकों को आकर्षित करते हैं। सुनहरे पंख फैला कर नृत्य करते मोर, रंग-बिरंगी तितलियां लोगों को आनंदित करती हैं। जुलाई-अगस्त में यहां के वॉटर फाल लोगों को मंत्रमुग्ध कर देते हैं। परशुराम कालीन मंदिर तुंगारेश्वर महादेव मंदिर में हमेशा भक्तों की भीड़ लगी रहती है। श्रावण महीने में श्रद्धालुओं की भीड़ ज्यादा होती है। शिवरात्रि के समय यहां श्रद्धालुओं की भीड़ लाखों में होती है। वसई रेलवे स्टेशन से आठ किलोमीटर दूर पर स्थित तुंगारेश्वर अभयारण्य कुछ दूर स्थानीय बस तथा कुछ दूर पैदल चलकर यहां पहुंचा जा सकता है। सीताराम बाप्पा आश्रम से ३ किलोमीटर की दूरी पर तुंगारेश्वर महादेव मंदिर है। यह बहुत ही पुरातन मंदिर है। यहां पहुंचने के लिए दो बरसाती नाले पड़ते हैं, जहां गर्मी का दिन छोड़कर हमेशा पानी रहता है।
बनेगा डियर पार्क
राज्य सरकार ने इस क्षेत्र का विकास करने का पैâसला किया है। यहां के नालों पर पुल बनाने का काम शीघ्र ही शुरू किया जाएगा। इसके अलावा पर्यटकों के लिए डियर पार्क विकसित करने की योजना बनाई गई है। पर्यटकों के लिए शौचालय तथा पेयजल की सुविधा, पोर्टल प्रâेम, पेगोडा आदि की व्यवस्था की जाएगी। रास्ते में पड़ने वाले नालों पर इस तरह के पुल का निर्माण किया जाएगा, जिससे इसकी प्राकृतिक सौंदर्य को नुकसान न हो।

अन्य समाचार