मुख्यपृष्ठनए समाचारचालबाज चीनी सरकार: गुलामों की जिंदगी जी रहे उइगर मुसलमान!

चालबाज चीनी सरकार: गुलामों की जिंदगी जी रहे उइगर मुसलमान!

अमेरिका आयोग का खुलासा
सामना संवाददाता / नई दिल्ली
चालबाज चीनी सरकार दूसरे देशों को तो मानवधिकार पर ज्ञान बांटती फिरती है और खुद अपने घर में उइगर मुसलमानों का नरसंहार कर रही है। चीन के शिनजियांग प्रांत में रहने वाले उइगर मुस्लिमों की जिंदगी को उसने नर्क से भी बदतर बनाकर रख दिया है। चीनी कम्युनिस्ट पार्टी अपने देश में रहने वाले उइगर मुस्लिमों पर जो जुल्म कर रही है, वो बेहद शर्मनाक है। जिसके खिलाफ अब दुनियाभर से आवाजें उठने लगीं हैं। ब्रिटेन, अमेरिका और कनाडा ने सीधे तौर पर चीन में चलाए जा रहे डिटेंशन वैंâपों को शर्मनाक और बर्बरतापूर्ण दिया है। चीन की इस कृत्य को लेकर दुनिया में निंदा हो रही है कि शिनजियांग में जिन वोकेशनल ट्रेनिंग सेंटरों को स्किल डेवलपमेंट केंद्र बताया जा रहा है वे वास्तव में प्रशिक्षण केंद्र हैं। संयुक्त राज्य के मुताबिक एक मिलियन उइगर मुस्लिम शिनजियांग में बंधक हैं।

चीन कर रहा है ‘नरसंहार’
अब संयुक्त राज्य अमेरिका कांग्रेस ने अपनी एक रिपोर्ट में कहा है कि शिनजियांग के पश्चिमी क्षेत्र में उइगर और अन्य अल्पसंख्यक मुसलमानों का चीन ‘नरसंहार’कर रहा है। चीन पर अमेरिकी कांग्रेस-कार्यकारी आयोग ने कहा कि पिछले साल नए सबूत सामने आए थे कि ‘मानवता के खिलाफ अपराध और नरसंहार घटित हो रहे हैं। एक उइगर डॉक्टर को २० साल की जेल की सजा सुनाई गई। चीन के शिनजियांग क्षेत्र से सभी कपास, टमाटर उत्पादों पर भी अमेरिका ने प्रतिबंध लगा दिया है। उइगर मुस्लिमों पर चीन की इस भयानक बर्बरता की ब्रिटेन ने निंदा की है।

हिरासत में हैं दस लाख उइगर मुसलमान
संयुक्त राष्ट्र का कहना है कि शिनजियांग में कम से कम दस लाख उइगर और अन्य मुसलमानों को हिरासत में लिया गया है। इस पर नेताओं, कार्यकर्ता समूहों और अन्य लोगों ने कहा है कि चीन में मानवता के खिलाफ अपराध हो रहे हैं। हालांकि चीन इन आरोपों से इनकार कर रहा है। रिपोर्ट में कहा गया है कि शिनजियांग में मानवाधिकारों के हनन के विरुद्ध अमेरिका को एक औपचारिक अमेरिकी दृढ़ संकल्प दिखाना होगा। बीते २७ दिसंबर को अमेरिकी संसद में पारित प्रस्ताव के ९० दिनों के भीतर दिखाने की आवश्यकता है।

चीनी सरकार मानवाधिकारों का कर रही है हनन
अमेरिका के सचिव माइक पोम्पिओने ने मानव अधिकारों को कुचलने के लिए चीन की इस कार्रवाई को ‘चौंकाने वाला और अभूतपूर्व’ कहा और बिडेन प्रशासन से बीजिंग को जवाबदेह रखने का आग्रह किया है। ‘संयुक्त राज्य अमेरिका ने कहा है कि हम चीन के लोगों के साथ खड़े हैं और चीनी सरकार के मानवाधिकारों के हनन के लिए एकजुट और समन्वित प्रतिक्रिया में दुनिया का नेतृत्व करना चाहते हैं। अमेरिकी आयोग ने कहा है कि दुनिया के दो सबसे बड़े आर्थिक पॉवरहाउस के बीच संबंधों ने हाल के वर्षों में मानव अधिकारों, कोरोवायरस वायरस महामारी, व्यापार, जासूसी और हांगकांग सहित एक व्यापक राष्ट्रीय सुरक्षा कानून सहित कई मुद्दों पर असहमति के स्तर तक गिर गया है।

अन्य समाचार