मुख्यपृष्ठनए समाचारउद्धव ठाकरे की संकल्पना पूरी होने के कगार पर, टोल फ्री और...

उद्धव ठाकरे की संकल्पना पूरी होने के कगार पर, टोल फ्री और सिग्नल फ्री होगी कोस्टल रोड की यात्रा! मरीन ड्राइव से ब्रीच कैंडी का सफर मात्र ३ मिनट में, २० दिनों बाद मुंबईकरों को मिल सकता है यात्रा का मौका

रामदिनेश यादव / मुंबई
देश के लिए ऐतिहासिक समुद्री सुरंगवाली सड़क परियोजना कोस्टल रोड का काम लगभग ९७ प्रतिशत पूरा हो गया है। अगले महीने दूसरे सप्ताह में इसका उद्घाटन होगा। इस सड़क परियोजना को बन जाने से दक्षिण मुंबईकरों के ट्रैफिक और ईंधन दोनों से बचत होगी। इससे मरीन ड्राइव से ब्रीच वैंâडी के बीच मात्र ३ मिनट में यात्रा पूरी की जा सकेगी, जबकि इसके लिए अब तक ३० मिनट का समय लग रहा है। एक टेस्ट ड्राइव में यह पता चला है कि इस सड़क पर यात्रा करने से लोगों का समय सीधे २६ से २७ मिनट बचेगा। मरीन ड्राइव से ब्रीच वैंâडी के बीच ७ सिग्नल को पार करना पड़ता है और ट्रैफिक से लोग अलग जूझते हैं। अब सीधे २६ से २७ मिनट का फायदा होगा।
यह परियोजना शिवसेना (उद्धव बालासाहेब ठाकरे) पक्षप्रमुख उद्धव ठाकरे की अगुवाई में मनपा ने शुरू की थी। शिवसेना और मनपा की महत्वाकांक्षी इस परियोजना को समय से पूरा करने का प्रयास मनपा कर रही है। पिछली सरकार में मंत्री रहते हुए युवासेनाप्रमुख आदित्य ठाकरे ने इस परियोजना पर विशेष जोर दिया था। तमाम बैठकें और दौरा कर आदित्य ठाकरे ने इस परियोजना को रफ्तार दिलाई थी। बता दें कि कोस्टल रोड परियोजना के तहत २.०७ किलोमीटर तक लंबी दो सुरंगों का निर्माण कार्य पूरे होने के बाद मनपा ने अब उसकी सुरक्षा और अन्य कार्यों पर जोर दिया है। इसका लगभग ९७ प्रतिशत कार्य हो चुका है। इसके उद्घाटन के बाद मुंबई के निवासी मरीन ड्राइव से ब्रीच वैंâडी तक बिना सिग्नल वाले रास्ते पर तेज यात्रा की उम्मीद कर सकते हैं। हाल ही में एक परीक्षण के दौरान इन दोनों बिंदुओं के बीच यात्रा का समय उल्लेखनीय रूप से कम होकर तीन मिनट और बीस सेकंड हो गया था।
क्या है परियोजना
१०.५८ किमी लंबी इस परियोजना का निर्माण प्रिंसेस स्ट्रीट फ्लाईओवर से बांद्रा-वर्ली सी लिंक के दक्षिणी छोर तक किया जा रहा है। कुल १२.५ हजार करोड़ से अधिक लागतवाली इस परियोजना में ४+४ लेन की कोस्टल सड़कें, पुल, एलिवेटेड सड़कें और सुरंगें शामिल हैं। कुल तीन चरण में काम हो रहा है। चौथे चरण के तहत प्रिंसेस स्ट्रीट फ्लाईओवर से प्रियदर्शिनी पार्क तक ४.०५ किमी, पहले चरण के तहत प्रियदर्शिनी पार्क से बड़ौदा पैलेस तक ३.८२ किमी और दूसरे चरण में बड़ौदा पैलेस से बांद्रा-वर्ली-सी लिंक तक २.७१ किमी की दूरी तक कार्य हो रहा है। तीसरे चरण का कार्य रिंग रोड पुलों से जुड़ा है। पहले और चौथे चरण का काम मेसर्स लार्सन एंड टुब्रो लिमिटेड और दूसरे चरण के कार्य मेसर्स एचसीसी-एचडीसी (संयुक्त उद्यम) कर रहा है। एक सलाहकार भी नियुक्त किया गया है। ये सुरंगें अत्यंत आधुनिक बनाई गईं हैं। सुरंगों को १० से ७० मीटर नीचे तक बनाया गया है। समुद्र के नीचे से जानेवाली देश की ये पहली सुरंगें हैं। इन सुरंगों के अंदर वेंटिलेशन की व्यवस्था बनाई गई है, चिकित्सा सेवा और अन्य आधुनिक तकनीकी का भरपूर उपयोग किया जा रहा है, ताकि यातायात के दौरान किसी भी प्रकार की समस्या न हो।

टोल प्रâी सुरंग यात्रा
टोल-प्रâी जुड़वां सुरंगों का उद्घाटन फरवरी के दूसरे सप्ताह में होनेवाला है, जिससे मरीन ड्राइव से ब्रीच वैंâडी तक यात्रा के समय में उल्लेखनीय कमी आएगी। ये सुरंगें प्रियदर्शनी पार्क से गिरगांव के पास से निकलती हैं, जो अरब सागर, गिरगांव चौपाटी के नीच से गुजर रही हैं। मनपा ने पहले ही तय किया था कि इस सड़क परियोजना के लिए मुंबईकरों से टोल नहीं वसूला जाएगा।

अन्य समाचार