मुख्यपृष्ठविश्वयूक्रेन के सीने पर ‘खंजर' से वार...रूस ने दागी हाइपरसॉनिक मिसाइल

यूक्रेन के सीने पर ‘खंजर’ से वार…रूस ने दागी हाइपरसॉनिक मिसाइल

• जंग में यूक्रेन का हथियार डिपो उड़ाया
एजेंसी / कीव । २४ फरवरी को शुरू हुई रूस-यूक्रेन जंग थमने का नाम नहीं ले रही है। जंग के २४ वें दिन रूस ने यूक्रेन पर `किन्झॉल’ हाइपरसॉनिक मिसाइल दागने का दावा किया है। रूस का कहना है कि उसने इस मिसाइल से यूक्रेन के पश्चिमी इलाके में बने हथियार डिपो को तबाह कर दिया। किन्झॉल रूसी भाषा का शब्द है, जिसका मतलब खंजर होता है। रूस की डिफेंस मिनिस्ट्री ने कहा कि हाइपरसॉनिक एरोबैलिस्टिक मिसाइलों के साथ किन्झॉल एविएशन मिसाइल सिस्टम ने इवानो-प्रैंâकिवस्क इलाके के डेलियाटिन गांव में मिसाइलों और गोला बारूद वाले एक बड़े अंडरग्राउड डिपो को तबाह कर दिया।
परमाणु हमला कर सकता है रूस
इसी बीच अमेरिका ने चेतावनी दी है कि रूस-यूक्रेन में परमाणु हमला भी कर सकता है। २०१८ में रूसी सेना में शामिल की गई इस मिसाइल पर परमाणु और कन्वेंशनल दोनों तरह के हथियार ले जा सकते हैं। यह मिसाइल ४,९०० से १२,३५० किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से वार कर सकती है।
पुतिन ने की फ्रांस के राष्ट्रपति से बात
युद्ध के बीच इस मसले को हल करने के लिए डिप्लोमैटिक रास्ते भी खोजे जा रहे हैं। इसी क्रम में रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने प्रâांसीसी राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों से फोन पर बातचीत की। इस दौरान पुतिन ने यूक्रेन पर वॉर क्राइम का आरोप लगाया। पुतिन ने कहा कि रूस, यूक्रेन में आम नागरिकों को मौत से बचाने के लिए हर संभव प्रयास कर रहा है। इसके लिए ह्यूमैनिटेरियन कॉरिडोर बनाने जैसे प्रयास भी शामिल हैं।
क्या है किन्झॉल की खासियत?
व्लादिमीर पुतिन इस मिसाइल को `आइडियल वेपन’ कहते हैं क्योंकि १,५०० मील, यानी २००० किलोमीटर की मारक क्षमता वाली यह मिसाइल परमाणु बम भी गिरा सकती है। इस मिलाइल की टेस्टिंग पहली बार २०१८ में की गई थी। किन्झॉल मिसाइल साउंड से १० गुना ज्‍यादा रफ्तार से चलती है और ३ किमी प्रति सेकंड की रफ्तार से हमला करने में सक्षम है। इसकी वजह से अत्‍याधुनिक एयर‍ डिफेंस सिस्‍टम भी इसके सामने फेल साबित होता है। इस हाइपरसॉनिक मिसाइल में जो सेंसर लगे हैं उससे जमीन से लेकर समुद्र तक में सटीक हमला करने की बेजोड़ ताकत मिलती है।

अन्य समाचार