मुख्यपृष्ठसमाचारयूपी कांग्रेस अध्यक्ष अजय लल्लू की होगी छुट्टी

यूपी कांग्रेस अध्यक्ष अजय लल्लू की होगी छुट्टी

• लोकसभा 2024 के चुनाव को लेकर प्रियंका गंभीर
•  हारे नेताओं से कहा ” तैयार रहो 2024 हमारा है”

मनोज श्रीवास्तव/लखनऊ। उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव में पराजय को लेकर कांग्रेस का पहला इफेक्ट आ गया। यूपी कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष अजय कुमार “लल्लू” इस्तीफा देंगे। यूपी में सांगठनिक शून्यता से प्रियंका गांधी बहुत निराश हुई हैं। योगी सरकार में उम्भा में आदिवासियों की हत्या का मामला हो, हाथरस में युवती के साथ हुई हैवानियत के बाद प्रशासन के दबाव में रातोंरात उसकी अंत्येष्टि करने, सीए कानून का विरोध करने पर योगी सरकार द्वारा कार्रवाई के नाम पर किया गया जुल्म हो, उन्नाव में दुराचार पीड़िता और उसके परिजनों पर भाजपा विधायक द्वारा जुर्म करने का आरोप हो या लखीमपुर खीरी में किसानों पर जीप चढ़ाने के मामले में सबसे पहले कांग्रेस ने या यूं कहूं सबसे पहले प्रियंका गांधी ने संज्ञान लिया था। सपा मुखिया अखिलेश यादव ने बाद में इन सभी मुद्दों को हाईजैक कर लिया। योगी आदित्यनाथ के पूरे पांच साल के कार्यकाल में जुर्म-जबर्दस्ती के जितने अत्याचार हुए सभी मामले तब चर्चित हुए जब प्रियंका गांधी उसको लेकर सड़क पर उतरीं। कांग्रेस सूत्रों की मानें तो विधानसभा चुनाव में अजय कुमार ” लल्लू ” को लगभग सत्तर हजार से मिली पराजय और 90 प्रतिशत से ज्यादा प्रत्याशियों की जमानत जप्त होने से नाराज कांग्रेस की राष्ट्रीय महासचिव एवं यूपी की प्रभारी प्रियंका गांधी ने पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष सोनिया गांधी को दिया है। प्रियंका ने अपनी टिप्पणी में कहा है कि यदि यही प्रदेश अध्यक्ष रहे तो हम खुद को यूपी के प्रभारी से हटेंगे। कांग्रेस को यूपी में मिली हार प्रियंका जरा भी विचलित नहीं हैं। उन्होंने सभी प्रत्याशियों से कहा है कि तैयार रहो हम आपके पास आ रहे हैं, 2024 हमारा है। चुनाव के दौरान ही उन्होंने सर्वे करवाने के बाद निर्णय लिया है कि ब्राह्मण या मुस्लिम चेहरे को प्रदेश अध्यक्ष बना कर लोकसभा चुनाव 2024 में उतरा जाय।
बता दें कि विधानसभा चुनाव 2022 की मतगणना भी नहीं हो पायी थी एक्जिट पोल की खुमारी का दौर चल रहा था उसी दौरान प्रियंका गांधी लड़की हूं लड़ सकती हूं के नारे के साथ वीरांगना उदा बाई की मूर्ति पर माल्यार्पण कर कड़े धूप में प्रदर्शन किया था। राजनैतिक हल्कों में इसका सीधा संदेश यह माना गया कि 2024 तक प्रियंका योगी के भाजपा राज को चैन से नहीं चलने देंगी।

समाजवादी पार्टी राज्य की मुख्य विपक्षी पार्टी होने के बाद भी भाजपा को उतना नहीं घेर पायी जितना प्रियंका गांधी ने छकाया। मंगलवार को यूपी कांग्रेस दफ्तर में यह खबर उड़ी की मैडम सोनिया गांधी ने लल्लू से इस्तीफा मांग लिया है तो उसके बाद माहौल बदल गया। अजय लल्लू के समर्थकों का दावा है कि आलाकमान अकेले उनसे ही नहीं नाराज हैं। जिन पांच राज्यों में विधानसभा चुनाव था वहां कहीं भी कांग्रेस सरकार नहीं बना पायी। पंजाब में जहां कांग्रेस की सरकार थी वहां पार्टी को हार के साथ बुरे पराजय का दंश झेलना पड़ रहा है। सभी पांचों राज्यों के प्रदेश अध्यक्ष हटाये जा रहे हैं। इस लिये अजय लल्लू को कोशने वाले ज्यादा खुश न हों। राजनीतिक समीक्षको का एक बड़ा वर्ग यह मान रहा है जिस दिन प्रियंका गांधी जाति-धर्म का काकश तोड़ने में कामयाब हुई भाजपा ध्वस्त हो जायेगी। विधानसभा चुनाव में मुसलमानों ने सपा को एकजुट होकर लड़ाया लेकिन वह भाजपा को नहीं हरा पायी। 2024 में राष्ट्रीय पार्टी के साथ मुसलमान खड़े होंगे तभी केंद्र से भाजपा को हटाया जा सकता है। इस लिये प्रियंका गांधी एक बार फिर भाजपा के ऊपर हमलावर होने के लिये जल्द ही राज्यव्यापी दौरा शुरू करेगी। वह भारी मात्रा में प्रत्याशियों की जमानत जप्त होने से विचलित नहीं हुई है। उन सभी प्रत्याशियों को लोकसभा चुनाव में पार्टी की तैयारियों में जूझ जाने का मंत्र दे दिया है। बताते हैं प्रियंका ने सभी प्रत्याशियों से हारने के बाद फोन पर व्यक्तिगत हाल लिया था। उन्होंने कहा कि आप जरा भी न घबराइये हम आपके पास आ रहे हैं। तैयार रहो, 2024 हमारा है।

अन्य समाचार