मुख्यपृष्ठनए समाचारबीएचयू में कैंपस विभाजन को लेकर मचा बवाल! ...पूरे कैंपस की सुरक्षा...

बीएचयू में कैंपस विभाजन को लेकर मचा बवाल! …पूरे कैंपस की सुरक्षा का किया जाए पुख्ता इंतजाम

उमेश गुप्ता / वाराणसी

काशी हिंदू विश्वविद्यालय में एवीबीपी सहित कई छात्र संगठनों के लोग एक जुट होकर केन्द्रीय कार्यालय के बाहर जमकर नारेबाजी के साथ धरना दिया। धरने पर बैठे छात्रों का कहना था कि 2 नवंबर को परिसर में IIT BHU की एक छात्रा के साथ छेड़खानी की शर्मनाक घटना घटित हुई। उस छात्रा को न्याय मिले। वहीं आईआईटी बीएचयू और बीएचयू के बीच दीवार बनाने के प्रस्ताव का विरोध किया गया।

धरनारत छात्र अभय सिंह ने कहा कि प्रशासनिक लापरवाही एवं सुरक्षा की अनदेखी के कारण इस पर की घटनाएं आए दिन परिसर में होती हैं। इसका प्रमुख कारण सुरक्षाकर्मियों की कमी, CCTV सहित अन्य संसाधनों की कमी एवं परिसर में रात्रिकालीन बड़े पैमाने पर बाहरी अराजक तत्वों का जमावड़ा है। परिसर में सुरक्षा व्यवस्था सुचारू करने हेतु अनेकों कदम उठाए जाने की आवश्यकता है ताकि भविष्य में इस प्रकार की घटना की पुनरावृति न हो।

एक अन्य छात्र पुनीत मिश्रा ने कहा कि काशी हिंदू विश्वविद्यालय भारत रत्न महामना पंडित मदनमोहन मालवीय जी का वह विचार है जिसने वर्ष 1916 में ही आज वर्तमान की राष्ट्रीय शिक्षा नीति की नींव रखी थी जिसमें एक ही परिसर से सम्पूर्ण विषयों की शिक्षा की व्यवस्था बनाई गई थी एवं यह कोई सामान्य विश्वविद्यालय परिसर नहीं है। उन्होंने कहा परिसर के किसी भी भाग में होने वाली आपराधिक घटना संपूर्ण परिसर की छात्राओं एवं छात्रों के लिए असुरक्षा का विषय है एवं इसका समाधान महामना के बनाए परिसर को विभाजित करने से नहीं है बल्कि सुरक्षा को और बेहतर व्यवस्था बनाने से है।

हम लोगों का मांग है कि बीएचयू परिसर में सभी चौराहों पर तत्काल उन्नत श्रेणी के CCTV कैमरों की व्यवस्था सुनिश्चित की जाए। वर्तमान में लगे CCTV कैमरों की गुणवत्ता की भी जांच हो। परिसर में सुरक्षाकर्मियों की संख्या में बढ़ोतरी की जाए जो की पूर्व में कम किए गए थे। परिसर में सायंकालीन बाहरी अराजक तत्वों के जमावड़े को प्रतिबंधित करने के साथ ही वाहनों के प्रवेश को रोका जाए तथा काशी हिन्दू विश्वविद्यालय परिसर में विभाजन करने के प्रस्ताव पर तत्काल रोक लगाई जाए।

अन्य समाचार