" /> मुंबईकरों की सेहत पर यूपी का चुनावी सट्टा!…. महाराष्ट्र कोटे की वैक्सीन उत्तर प्रदेश को

मुंबईकरों की सेहत पर यूपी का चुनावी सट्टा!…. महाराष्ट्र कोटे की वैक्सीन उत्तर प्रदेश को

वैक्सीन भेदभाव का वायरल सच

अगले वर्ष उत्तर प्रदेश में विधानसभा चुनाव है। इस चुनाव को देखते हुए केंद्र की भाजपा सरकार ने यूपी में वोट बैंक के लिए वैक्सीन की राजनीति अभी से शुरू कर दी है। हद तो ये हो गई है कि मुंबईकरों की सेहत पर यूपी का चुनावी सट्टा लगाया जा रहा है, जिसका खामियाजा मुंबईकरों को भुगतना पड़ रहा है। केंद्र सरकार यूपी चुनाव के लिए महाराष्ट्र और मुंबई की जनता की सेहत के साथ खिलवाड़ कर रही है। वैक्सीन भेदभाव का वायरल सच अब सामने आ गया है। जी हां, यूपी में अपना वोट बैंक बढ़ाने के लिए केंद्र सरकार ने कोरोना के खिलाफ कारगर वैक्सीन की सप्लाई तेज कर दी है। यहां तक कि मुंबई और महाराष्ट्र के कोटे की वैक्सीन भी यूपी को दी जा रही है। ऐसे आरोप लगातार केंद्र पर लग रहे हैं। यहां मुंबई के तमाम नेताओं द्वारा लगातार अनुरोध के बावजूद केंद्र सरकार के कानों में जूं तक नहीं रेंग रही है।
वैक्सीन की पर्याप्त मात्रा नहीं होने से लगातार चार-चार दिनों तक वैक्सीनेशन सेंटर्स बंद करने की नौबत आ जाती है। अब तक लगभग १५ बार वैक्सीनेशन सेंटर्स को बंद करना पड़ा है। मनपा को जहां इससे बड़ा आर्थिक नुकसान हो रहा है, वहीं मुंबईकरों की सेहत के साथ खिलवाड़ हो रहा है। सवा करोड़ आबादी वाले मुंबई में एक तरफ कोरोना की तीसरी लहर को लेकर वरिष्ठ वैज्ञानिकों की चेतवानी और दूसरी तरफ वैक्सीन की कमी ने मुंबईकरों के लिए आगे कुंआ और पीछे खाई जैसी स्थिति खड़ी कर दी है। कोविन पोर्टल के मुताबिक यूपी में अभी तक ४ करोड़ १९ लाख ९३ हजार ४०१ को वैक्सीन की खुराक दी जा चुकी है, जिसमें पहली खुराक लेनेवाले लाभार्थियों की संख्या ३ करोड़ ५१ लाख, ५८ हजार ९७१ है। जबकि महाराष्ट्र में अभी तक ४ करोड़ २ लाख १२ हजार ६४४ को वैक्सीन की खुराक की जा चुकी है, जिसमें पहली खुराक लेनेवाले लाभार्थियों की संख्या ३ करोड़ ८ लाख १५ हजार ९६७ है। आंकड़ों की तुलना करें तो पहली खुराक लेनेवाले लाभार्थियों में ४३ लाख का अंतर है। अब यूपी में चुनाव की तैयारी शुरू हो गई है। इसे देखते हुए यूपी में वैक्सीन का स्टॉक बढ़ाया जा रहा है, जबकि महाराष्ट्र के हाथ सीमित स्टॉक लग रहा है। केंद्र सरकार एक तरफ कोरोना से बचाव के लिए वैक्सीनेशन अभियान चलाकर लोगों को वैक्सीन लेने के लिए प्रेरित कर रही है, तो वहीं दूसरी तरफ मुंबई और महाराष्ट्र को वैक्सीन ना देकर पक्षपात कर रही है। मुंबई में अब तक मात्र ६७,९७,५८८ लोगों को वैक्सीन दी गई है, जिनमें १५ लाख लोगों को दूसरी खुराक मिली है। मतलब बाकी के लोग अब भी असुरक्षित ही हैं।

केंद्र सरकार के कोविन ऐप के अनुसार पिछले ४ महीने से महाराष्ट्र में वैक्सीन की सप्लाई में बड़े पैमाने पर कमी आई है। चुनाव के लिए महाराष्ट्र में वैक्सीन की सप्लाई रोककर यूपी में बढ़ाई जा रही है।
मार्च और अप्रैल महीने में जब यूपी में लोगों को प्रत्येक सप्ताह १० से १५ लाख वैक्सीन की खुराक दी जा रही थी, तब महाराष्ट्र में २० से २५ लाख लोगों को प्रत्येक सप्ताह वैक्सीन दी जा रही थी। लेकिन मई महीने से यूपी में चुनाव को हरे झंडी मिलने के बाद केंद्र ने वहां वैक्सीन की सप्लाई बढ़ा दी, मई महीने के अंतिम और जून के शुरुआती सप्ताह में यूपी में ४० से ४५ लाख लोगों को प्रत्येक सप्ताह वैक्सीन की खुराक दी गई। उसी समय महाराष्ट्र में वैक्सीन की सप्लाई कम की गई। नतीजतन, महाराष्ट्र जो यूपी से बहुत आगे था वह धीरे-धीरे पिछड़ने लगा। जून के पहले सप्ताह तक महाराष्ट्र में मात्र २५ से ३० लाख लोगों को प्रति सप्ताह वैक्सीन की खुराक मिल पाई, जबकि एक दिन में १५ लाख से अधिक लोगों को वैक्सीन देने की क्षमता है।
केंद्र का पक्षपात
शिवसेना विधायक मनीषा कायंदे ने कहा कि केंद्र की भाजपा सरकार इलेक्शन ओरिएंटेड पार्टी है। जहां इलेक्शन होता है, वहां सब कुछ करती है। गैर भाजपा शासित राज्यों के साथ पक्षपात उनकी आदत है। रही बात यूपी की तो वहां अगले विधानसभा चुनाव देखकर वे वहां वैक्सीन सप्लाई बढ़ा रहे हैं। यहां मुंबईकरों की चिंता उन्हें नहीं है। गंगा में बही लाशों के मामले पर अब वे पर्दा डालने का काम कर रहे हैं। एक साजिश के तहत ही मुंबई में वैक्सीनेशन अभियान को खंडित किया जा रहा है।
मनपा को हो रहा है आर्थिक नुकसान
मनपा के स्वास्थ्य विभाग की प्रमुख अधिकारी मंगला गोमरे ने कहा कि हर सप्ताह वैक्सीन की कमी के चलते कई बार वैक्सीनेशन सेंटर्स को पूरी तरह से बंद करना पड़ रहा है। ऐसे में मुंबई मनपा को भी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। तमाम साधन- संसाधन और व्यवस्था बनाकर तैयार बैठी मनपा को वैक्सीन की अनुपलब्धता के चलते सेंटर्स बंद करने पड़ते हैं, जिससे मनपा का आर्थिक नुकसान भी हो रहा है।

उत्तर प्रदेश
कुल ४,१९,९३,४०१ वैक्सीन की खुराक दी
पहली खुराक -३,५१,५८,९७१
दूसरी खुराक -६८,३४,४३०
वैक्सीनेशन सेंटर्स -३,७३३
मुंबई में वैक्सीन की खुराक
कुल ६७,९७,५८८ वैक्सीन की खुराक
पहली खुराक -५२,०२,९८१
दूसरी खुराक -१५,९४,६०७
वैक्सीनेशन सेंटर्स- ४१२
महाराष्ट्र
कुल ४,०२,१२,६४४ वैक्सीन की खुराक दी
पहली खुराक -३,०८,१५,९६७
दूसरी खुराक- ९३,९६,६७७
वैक्सीनेशन सेंटर्स-१,१३१