मुख्यपृष्ठनए समाचारसेक्सटॉर्शन से लूटता था : `गे डेटिंग' गैंग! ...समलैंगिक सेक्स की चाहत...

सेक्सटॉर्शन से लूटता था : `गे डेटिंग’ गैंग! …समलैंगिक सेक्स की चाहत में ५० से अधिक बन चुके हैं शिकार

सामना संवाददाता / नई दिल्ली
दिल्ली पुलिस ने एक गैंग का पर्दाफाश किया है। ये गैंग समलैंगिक रिलेशनशिप (गे डेटिंग) की आड़ में लोगों को अपना शिकार बनाता था। इस गैंग के लोग डेटिंग ऐप पर आकर्षक प्रोफाइल बनाकर पहले लोगों को निशाना बनाते और उसके बाद वीडियो वायरल करने की धमकी देते। इस मामले में मास्टरमाइंड हिमांशु गुप्ता, गौरव कश्यप उर्फ लालू, शादाब अंजुम उर्फ राहुल, दीपांशु कुमार उर्फ चिंटू और शिशांत कुमार को पुलिस ने गिरफ्तार किया है।
नितेश (बदला हुआ नाम) की जिंदगी में सब कुछ ठीक चल रहा था। इसी बीच नितेश के मन में कुछ अरमान जागे। एक समलैंगिक रिलेशनशिप की तलाश में उसने एक डेटिंग ऐप डाउनलोड किया। यहां उसे `रियली रिलेशनशिप’ नाम की एक प्रोफाइल मिली और दोनों के बीच बातें होने लगीं। कुछ ही दिनों में ये बातचीत अंतरंग हो गई और दोनों खुलकर एक-दूसरे से अपनी ख्वाहिशें शेयर करने लगे। नितेश खुश था। अपनी जिंदगी में जिस चीज की कमी वो महसूस करता था, उसे वो मिल गई थी। बातचीत के बाद अब दोनों के बीच मुलाकात की हसरत जागी। २९ मार्च को रात ९ बजे नितेश को मिलने के लिए निर्माण विहार मेट्रो स्टेशन बुलाया गया। नितेश तय वक्त पर पहुंच गया। कुछ ही देर में लाल रंग की एक चमचमाती हुई गाड़ी उसके पास आकर रुकी और नितेश उसमें बैठ गया। उस समय नितेश को बिल्कुल अंदाजा नहीं था कि उसके साथ क्या होने वाला है। दोनों पहले एक लॉन्ग ड्राइव पर निकले और इसके बाद गाड़ी एक अंधेरी और सुनसान गली में आकर रुक गई। नितेश के इस `रियली रिलेशनशिप’ वाले साथी ने गाड़ी के शीशों को ढक दिया।
संबंध बनाते समय ४ लोग आ धमके
सुनसान गली में गाड़ी के अंदर दोनों संबंध बना ही रहे थे कि तभी वहां चार लोग पहुंचे और खिड़की खोलकर वीडियो बनाने लगे। नितेश कुछ समझ पाता, इससे पहले ही उसकी सारी हरकतें मोबाइल के वैâमरे में वैâद हो गर्इं। उसका फोन छीन लिया गया और वीडियो वायरल करने की धमकी देकर २० हजार रुपए मांगे गए। दरअसल, नितेश एक ऐसे गैंग का शिकार बन चुका था, जो सेक्सटॉर्शन के जरिए अब तक ५० से ज्यादा लोगों को लूट चुका था। इस गैंग में वो लड़का भी शामिल था, जिसे नितेश अपना प्यार समझ रहा था। कई दिनों तक उसके साथ ब्लैंकमेलिंग होती रही। आखिरकार, तंग आकर नितेश पुलिस के पास पहुंचा।
ऐसे शिकंजे में आया गैंग
`गे डेटिंग’ के नाम पर ये गैंग ईस्ट दिल्ली के शकरपुर से चल रहा था। नितेश ने पुलिस को अपनी पूरी आपबीती बताई। उसका मोबाइल भी इस गैंग के पास था। गैंग के लोग उसके मोबाइल से नितेश की पत्नी को फोन कर रुपयों की डिमांड करते। वो धमकी देते थे कि अगर रुपए नहीं दिए गए, तो नितेश के वीडियो को उनके रिश्तेदारों के बीच वायरल कर दिया जाएगा। नितेश की शिकायत के बाद पुलिस ने एक टीम बनाई। टीम ने उस इलाके के सीसीटीवी खंगाले, जहां वो कार रोकी गई थी। कुछ देर की मशक्कत के बाद पुलिस को एक सीसीटीवी में उस कार का नंबर दिख गया। इसके बाद पुलिस को गैंग तक पहुंचने में देर नहीं लगी और ५ लोगों को धर दबोचा गया।

अन्य समाचार