मुख्यपृष्ठनए समाचारकुलपति, इन प्रश्नों का उत्तर दें! ...आदित्य ठाकरे ने विश्वविद्यालय को लिखा...

कुलपति, इन प्रश्नों का उत्तर दें! …आदित्य ठाकरे ने विश्वविद्यालय को लिखा पत्र

सामना संवाददाता / मुंबई
आदित्य ठाकरे ने मुंबई विश्वविद्यालय के कुलपति डॉ. रवींद्र कुलकर्णी को एक पत्र भेजा गया। इस पत्र में उन्होंने कुछ प्रश्न लिखकर भेजे हैं और उन प्रश्नों के उत्तर देने की मांग की है।
मुंबई यूनिवर्सिटी में ऐसी कौन-सी आपात स्थिति आ गई थी कि देर रात ११.३० बजे विशेष प्रबंधन परिषद की बैठक के जरिए सर्कुलर जारी कर चुनाव रोकना पड़ा?
राज्यपाल जो कुलपति हैं क्या उनसे चर्चा की गई थी? और इसके लिए किस ने आदेश दिया था?
प्राचार्य, प्रबंधन, शिक्षक प्रतिनिधि के सीनेट चुनाव कराया गया है। केवल पंजीकृत स्नातक निर्वाचन क्षेत्र ही क्यों अटका हुआ है?
५.१५ लाख मतदाताओं से २० रुपए शुल्क वसूला गया है। उस बारे में क्या?
चूंकि इन चुनावों में पहले ही एक साल की देरी हो चुकी है, वहीं निर्वाचित सीनेट प्रतिनिधियों के पास सेवा करने के लिए कम समय होगा? क्या यह जानबूझकर किया जा रहा है?
चुनाव आयोग कार्यालय पर पहुंची युवासेना
चुनाव के लिए ऑफलाइन नामांकन दाखिल
युवासेना पदाधिकारियों ने कल युवासेना सचिव वरुण सरदेसाई के मार्गदर्शन में विश्वविद्यालय जाकर कुलसचिव व चुनाव निर्णय अधिकारी डॉक्टर सुनील भिरुड से मुलाकात कर जवाब मांगा। स्थगन क्यों दिया गया, इस सवाल का जवाब देते हुए भिरुड ने कहा कि स्थगन इसलिए दिया गया क्योंकि भाजपा विधायक आशीष शेलार ने उच्च शिक्षामंत्री से मतदाता सूची में गड़बड़ी की शिकायत की थी। इस दौरान, युवासेना के दस उम्मीदवारों ने भी अपने ऑफलाइन आवेदन जमा किए और विश्वविद्यालय ने उन्हें स्वीकार किया। बैठक के बाद वरुण सरदेसाई ने मीडिया से बातचीत की। उन्होंने कहा कि युवासेना ने सीनेट की सभी दस सीटों के लिए आवेदन दाखिल किया है और आवेदन कल ऑनलाइन और आज ऑफलाइन दाखिल किए गए हैं। उन्होंने विश्वास जताया कि वे इस बार भी दस की दस सीटें जीतेंगे। आशीष शेलार के पत्र और एबीवीपी की आपत्ति के आधार पर चुनाव तत्काल स्थगित कर दिया गया। विश्वविद्यालय ने जांच के बाद अंतिम मतदाता सूची जारी कर दी थी। इसके बाद चुनाव कार्यक्रम की घोषणा की गई।

अन्य समाचार