मुख्यपृष्ठसमाचारग्रामीणों को नसीब नहीं हो रहा पानी, दम तोड़ती योजना!

ग्रामीणों को नसीब नहीं हो रहा पानी, दम तोड़ती योजना!

आठ माह पहले हो चुका है पूरा काम
सामना संवाददाता / डिंडौरी । केंद्र सरकार की मंशा भले ही जल जीवन मिशन के तहत नल जल योजना के माध्यम से ग्रामीण इलाकों में शुद्ध पेयजल उपलब्ध कराने की हो। लेकिन डिंडौरी जैसे आदिवासी जिले के ग्रामीण इलाकों में अधिकारियों की लापरवाही की वजह से यह योजना दम तोड़ती नजर आ रही है। जिला मुख्यालय से महज तीन किलोमीटर दूर ग्राम धौरई में जहां २०२१ में नल जल योजना का पीएचई विभाग द्वारा काम पूरा कर लिया गया था। लगभग ७० परिवारों को नल जल योजना से कनेक्शन भी दिया जा चुका है लेकिन अभी तक यह योजना शुरू नहीं हो सकी है। ग्रामीणों का कहना है कि जब काम पूरा हो गया था तब पीएचई विभाग के अधिकारी आए थे और नल के साथ फोटो खींच कर ले गए उसके बाद फिर नहीं लौटे और न ही नल चालू हो पाया है। नल मात्र शोपीस बनकर रह गए हैं। धौरई गांव में ७० परिवार निवास करते है। गांव में नल जल योजना का काम शुरू हुआ तो ग्रामीणों को उम्मीद जगी कि इस बार तो उन्हें शुद्ध पानी के लिए परेशान नहीं होना पड़ेगा लेकिन उन्हें क्या पता था कि अधिकारियों की लापरवाही का खामियाजा ग्रामीणों को भुगतना पड़ेगा।

अन्य समाचार