मुख्यपृष्ठसमाचारविनय कटियार का आना पक्का नहीं... प्राण प्रतिष्ठा के बाद अखिलेश सपरिवार दर्शन...

विनय कटियार का आना पक्का नहीं… प्राण प्रतिष्ठा के बाद अखिलेश सपरिवार दर्शन करेंगे!

मनोज श्रीवास्तव / लखनऊ

बजरंग दल को राष्ट्रीय स्तर पर पहचान दिलाने वाले श्रीराम जन्मभूमि मुक्ति आंदोलन में प्रमुख भूमिका निभा चुके बजरंग दल के पूर्व राष्ट्रीय संयोजक, अयोध्या तत्कालीन फैजाबाद से तीन बार लोकसभा सांसद, पूर्व राज्यसभा सांसद, पूर्व राष्ट्रीय महासचिव, पूर्व भाजपा प्रदेश अध्यक्ष विनय कटियार को रामलला के प्राण प्रतिष्ठा समारोह का निमंत्रण मिला है। हालांकि, अयोध्या में मौजूद कटियार ने अभी समारोह में जाना तय नहीं किया है। इसके पीछे स्वास्थ्य को कारण बताया है। भाजपा में राजनाथ सिंह से निकटता के कारण कभी पार्टी में विनय कटियार की तूती बोलती थी। पार्टी में खुल्लमखुल्ला पिछड़ों के दबदबे का जब समय आया तो संघर्षशील विनय कटियार हाशिए पर ढकेल दिए गए,
जबकि समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव को श्रीराम जन्मभूमि स्थान पर विराजमान भगवान रामलला के भव्य मंदिर के पुनर्निर्माण की प्राण प्रतिष्ठा समारोह का निमंत्रण मिल गया है। इसके लिए उन्होंने “श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र अयोध्या’ के महासचिव चंपत राय को धन्यवाद देते हुए कहा है कि वे प्राण प्रतिष्ठा समारोह के बाद सपरिवार दर्शनार्थी बनकर अयोध्या आएंगे। साथ ही उन्होंने श्रीराम जन्मभूमि अयोध्या के प्राण प्रतिष्ठा समारोह के स्नेह निमंत्रण के लिए धन्यवाद दिया और समारोह के सकुशल संपन्न होने के लिए भी शुभकामनाएं दीं।
उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य और उपमुख्यमंत्री ब्रजेश पाठक को भी आरएसएस के प्रतिनिधि मंडल ने रविवार को निमंत्रण दिया है। केशव मौर्य भाजपा की राजनीति में आने से पूर्व वर्षों हिंदू परिषद के सक्रिय नेता रहे हैं। राममंदिर आंदोलन को खड़ा करने वाले विहिप नेता अशोक सिंघल के अतिप्रिय लोगों में केशव की गिनती होती थी, जबकि ब्रजेश पाठक का मंदिर आंदोलन के समय दूर-दूर तक भाजपा से नाता नहीं था। भाजपा में बाहरी नेताओं के महिमामंडन का ज्वलंत उदाहरण पाठक की गतिमान तरक्की से उत्साहित होकर उनके समर्थक उनको मुख्यमंत्री के रूप में देखने की अभिलाषा रखते हैं। उधर राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू, उप राष्ट्रपति जगदीप धनखड़, लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला को रामलला के नवीन विग्रह की प्राण प्रतिष्ठा समारोह के लिए आमंत्रित किया गया है। प्रख्यात मूर्ति शिल्पकार राम वी सुतार व चित्रकार वासुदेव कामत भी समारोह के खास मेहमान होंगे। रामजन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के एक न्यासी ने बताया कि दिल्ली में ट्रस्ट की ओर से राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के अखिल भारतीय संपर्क प्रमुख रामलाल, विहिप के केंद्रीय कार्याध्यक्ष आलोक कुमार व मंदिर निर्माण समिति के अध्यक्ष नृपेंद्र मिश्र ने राष्ट्रपति को समारोह के लिए आमंत्रित किया।

अन्य समाचार