" /> बसपा विधायक विनय शंकर तिवारी की मुश्किलें बढ़ीं…ईडी ने शुरू किया करोड़ों रुपए कर्ज की जांच

बसपा विधायक विनय शंकर तिवारी की मुश्किलें बढ़ीं…ईडी ने शुरू किया करोड़ों रुपए कर्ज की जांच

उत्तर प्रदेश में बहुजन समाज पार्टी के विधायक विनय शंकर तिवारी के खिलाफ प्रवर्तन निदेशालय द्वारा प्रिवेंशन ऑफ मनी लॉन्ड्रिंग एक्ट के तहत केस दर्ज करने के बाद जांच शुरू हो गई है। इस मामले में नामजद विनय शंकर तिवारी‚ उनकी पत्नी रीता तिवारी‚ कंपनी के ड़ायरेक्टर अजीत पांडे़य के साथ रॉयल इंपायर मार्केटिंग प्राइवेट लिमिटेड द्वारा गंगोत्री इंटर प्राइजेस के खातों के बारे में सभी सात बैंकों से जानकारी मांगी गयी है।

बताया जा रहा है कि जल्द ही ईड़ी के अधिकारी इन कंपनियों के 31 प्रमोटर्स और गारंटर्स को भी नोटिस देकर पूछताछ करने के लिए तलब करने की तैयारी में है। इनमें विनय शंकर तिवारी के पिता पूर्व मंत्री हरिशंकर तिवारी समेत उनके परिवार के तमाम सदस्य शामिल हैं।

इस मामले में सीबीआई द्वारा केस दर्ज करने के साथ बसपा विधायक के तीन शहरों में स्थित तमाम ठिकानों पर छापेमारी की गयी थी। बैंकों की रकम हड़पने से जुड़़ा मामला होने की वजह से ईड़ी ने भी इस मामले का केस दर्ज करने में देरी नहीं की।

बसपा विधायक और उनकी कंपनियों पर आरोप है कि उन्होंने सात बैंकों से 1129 करोड़ रुपए का कर्ज लेकर उसे अन्य जगहों पर निवेश कर दिया। इनमें बैंक ऑफ इंडिया‚ केनरा बैंक‚ ओरिएंटल बैंक ऑफ कॉमर्स‚ कारपोरेशन बैंक‚ आईडीबीआई बैंक‚ एक्सिस बैंक और सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया शामिल हैं।

सीबीआई से बैंकों ने अपनी शिकायत में फोरेंसिक ऑडिट रिपोर्ट भी दी थी। जिसमें कहा गया था कि बैंकों के करोड़़ों रुपए को हड़पने के लिए विनय शंकर तिवारी‚ उनकी पत्नी रीता तिवारी और डायरेक्टर अजीत पांडेय के साथ कंपनी के प्रमोटर्स और डायरेक्टर्स की मिलीभगत थी। साथ ही बैंकों में बतौर सिक्योरिटी बंधक रखी गयी 32संपत्तियों का भी जिक्र किया गया था। ये संपत्तियां गोरखपुर‚ महराजगंज‚ लखनऊ और नोएडा में स्थित हैं जिनकी अनुमानित कीमत करीब 100 करोड़ रुपए है। जांच में यह भी पता चला था कि गंगोत्री इंटर प्राइजेस द्वारा वर्ष 2011 से 3016 के बीच सहयोगी कंपनियों को 270 करोड़ रुपए ट्रांसफर किए गये।

विनय शंकर तिवारी‚ रीता तिवारी‚ अजीत पांडेय‚ कामिनी त्रिपाठी‚ गिरीश कुमार पांडेय‚ हरिशंकर तिवारी‚ शिवशंकर तिवारी‚ भीष्म शंकर तिवारी‚ आनंद शंकर तिवारी‚ रामानंद‚ अरुणा तिवारी‚ रीना तिवारी‚ रामजी पांडेय‚ आकाश शंकर तिवारी‚ रामलली तिवारी‚ संतोष पांडेय‚ रमेश पांडेय‚ मिथिलेश तिवारी‚ सुदेश पांडेय‚ सात्विक शंकर तिवारी‚ कंदर्प शंकर तिवारी‚ इशान शंकर तिवारी‚ हर्षिता तिवारी‚ परिभाषिता तिवारी‚ वर्तिका तिवारी‚ आत्मा पांडेय‚ कंदर्प होटल प्राइवेट लिमिटेड‚ गणेश शंकर पांडेय‚ रॉयल इंपायर मार्केटिंग प्राइवेट लिमिटेड‚ सुधीर दुबे और संजय सिंह।