अपशिष्ट

कल तक जो विशिष्ट था
वह अब अपशिष्ट है
उसका न कोई परिशिष्ट है
वह छोड़ दिया गया है
लावारिश सा…?
घर के किसी कोने में या आस-पास
खुली सड़क या फिर मैदान में
कल वह! कचरा बन जाएगा
अपनों से जो छूट जाता है
वह गैरों से भी रूठ जाता है…?
लोग उसे अर्थहीन समझते हैं
कचरे की माफिक?
वह कबाड़ बन जाएगा
कबाड़ी को बिक जाएगा
या फिर कूड़ा बन जाएगा
हां! वहीं विशिष्ट
कल अपशिष्ट बन जाएगा
शायद! यही नियति है?

-प्रभुनाथ शुक्ल

अन्य समाचार