मुख्यपृष्ठखबरें‘हम दोनों ही आजाद हैं!’ -सैफ अली खान

‘हम दोनों ही आजाद हैं!’ -सैफ अली खान

अपनी हर फिल्म के साथ सैफ अली खान की परफॉर्मेंस बेहद संजीदा होती जा रही है। कॉमेडी हो या सीरियस या फिर कोई निगेटिव किरदार हर जॉनर में वे छा जाते हैं। हाल ही में रिलीज हुई हृत्विक रोशन और सैफ अली खान अभिनीत फिल्म ‘विक्रम वेधा’ को बॉक्स ऑफिस पर उतनी सफलता नहीं मिली, जितना साउथ में बनी मूल फिल्म को मिली थी। पेश है, सैफ अली खान से पूजा सामंत की हुई बातचीत के प्रमुख अंश-

• फिल्म ‘विक्रम वेधा’ को उतनी सफलता नहीं मिली जितनी साउथ में बनी मूल फिल्म को मिली थी। क्या कहेंगे आप?
इसका सही जवाब निर्देशक-लेखक पुष्कर-गायत्री की जोड़ी ही दे सकती है, लेकिन इससे पहले भी ऐसा कई बार हुआ है जब ओरिजिनल फिल्म चली पर रिमेक नहीं चली। फिल्म के गीत बहुत चले और परफॉर्मेंस की भी बेहद तारीफ हुई, लेकिन किसी एक मुद्दे पर गौर करना आसान नहीं है।

• पहली बार हृत्विक रोशन के साथ काम करने का अनुभव वैâसा रहा?
मेरे करियर को २०२२ में ३० वर्ष पूरे हो जाएंगे। अक्षय कुमार, सुनील शेट्टी जैसे समकालीन स्टार्स के साथ मुझे काम करने का मौका मिला। उस वक्त हृत्विक था ही नहीं। पहली बार हृत्विक के साथ यह फिल्म मैंने ऑफिशियली की है। बहुत ही कमाल का एक्टर और गजब का डांसर है वो। उसके साथ मेरी केमिस्ट्री सभी को पसंद आ रही है। मैंने पुलिस यानी विक्रम का तो हृत्विक ने चोर वेधा का किरदार निभाया है। पब्लिक ने वेधा के किरदार को दिल से पसंद किया ये उसके परफॉर्मेंस की बड़ी ताकत है।

• शर्मिला टैगोर जैसी स्थापित अभिनेत्री का बेटा होने के नाते आपको संघर्ष नहीं करना पड़ा होगा?
ऐसा बिल्कुल भी नहीं है। शायद कइयों को पता नहीं होगा कि राहुल रवैल ने अपनी फिल्म ‘बेखुदी’ के लिए मुझे और काजोल को कास्ट किया था। लेकिन मेरा हिंदी उच्चारण सही नहीं होने के कारण उन्होंने मुझे ‘बेखुदी’ से आउट कर दिया। मेरी मां शर्मिला टैगोर ने मुझे या सोहा को लॉन्च नहीं किया और न ही उन्होंने किसी से हमारी सिफारिश की।

• क्या कभी अपनी इमेज के बारे में आपको कोई टेंशन नहीं हुआ?
सच कहूं तो आज से २५ वर्ष पहले मैंने कभी अपनी इमेज के बारे में नहीं सोचा। कभी मुझे लीड रोल करने का मौका मिला तो कभी सेकंड लीड। मैंने अक्षय कुमार के साथ काफी फिल्में कीं जो बॉक्स ऑफिस पर हिट रहीं। कुछ कल्ट फिल्में करने का भी मुझे मौका मिला। विशाल भारद्वाज की फिल्म ‘ओमकारा’ में लंगड़ा त्यागी का मेरा एक डार्क किरदार था। मैंने अपना करियर प्लान नहीं किया। ये मेरा अच्छा और सही निर्णय था। मैंने कभी सोचा नहीं और करता गया अपना काम।

• क्या कभी आपको असुरक्षा महसूस हुई?
कोई माने या न माने हर प्रोफेशन में असुरक्षा, तनाव व डर मौजूद है। कुछ वर्ष पहले मुझसे शाहरुख ने एक बात कही थी कि अभिनेता को अगर ऐसा लगता है कि वो बतौर अभिनेता कभी रिटायर न हो तो एक्टर को हमेशा रिलेवेंट रहना चाहिए। उसे नए एक्सपेरिमेंट करने चाहिए, नई जनरेशन की नब्ज उसे समझनी चाहिए, नए और कंटेंपररी विषयों पर आधारित फिल्मों को प्राथमिकता देनी चाहिए। ‘बिग बी’ अमिताभ बच्चन ने दर्शकों की नब्ज पहचान ली। आज उनके करियर को ५५ वर्ष हो गए लेकिन उनकी मांग में कोई कमी नहीं आई है।

• क्या करीना से करियर के बारे में डिस्कशन होता है?
अपने बचपन से ही बेबो बहुत इंडिपेंडेंट माइंड की रही है। यह परवरिश उसे अपनी मां और कपूर परिवार से मिला। बेबो ने अपने करियर में बहुत वेरायटी भरे किरदार निभाएं हैं और हर बड़े एक्टर और निर्देशक के साथ उसने काम किया है। मेकर्स उसे रिपीट करते हैं। एकाध फिल्म के बारे में ही हमारी चर्चा हुई है। लेकिन करियर के बारे में हमने एक-दूसरे पर अपने निर्णय नहीं थोपे। हम दोनों ही आजाद हैं अपनी चॉइस की फिल्मों को करने के लिए।

• आप दोनों एक साथ फिल्म में कब नजर आएंगे?
कुछ विज्ञापन फिल्मों में मैं और बेबो साथ नजर आए हैं। फिल्म ‘टशन’ से हम साथ हैं। सिर्फ एक-दूसरे के साथ नाम के लिए फिल्म करने में कोई मतलब नहीं बनता। साथ में फिल्म करने का मतलब है कि दोनों के किरदार सशक्त होने चाहिए। देखो, यह संजोग कब बनता है।

अन्य समाचार