मुख्यपृष्ठनए समाचार‘हम एक साथ हैं!’

‘हम एक साथ हैं!’

• कार्यों ने दे दिया है विरोधियों को करारा जवाब
• न करो महाराष्ट्र को बदनाम
• नहीं तो चरमरा जाती देश की अर्थव्यवस्था

सामना संवाददाता / मुंबई। मौजूदा समय में जो माहौल बनाया जा रहा है, वह महाराष्ट्र को बदनाम करने की साजिश रची जा रही है। महाराष्ट्र से द्वेष करनेवाले उन लोगों को बता देना चाहता हूं कि महाराष्ट्र देश की अर्थव्यवस्था में सर्वाधिक योगदान देनेवाला राज्य है। यह राज्य नहीं होता तो देश की अर्थव्यवस्था चरमरा जाती, इसलिए महाराष्ट्र को बदनाम मत करो। इन शब्दों में मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने कल विरोधियों की खबर ली। उन्होंने कहा कि महाविकास आघाड़ी सरकार को गिराने की कोशिश करनेवालों को हमने अपने कार्यों से करारा जवाब दिया है। हमने दिखा दिया है कि हम एक साथ हैं और हमारी सरकार में कोई मतभेद नहीं है।
मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने कल गुढी पाडवा के दिन वीडियो कॉन्प्रâेंसिंग के जरिए वडाला में जीएसटी भवन का भूमिपूजन किया। इसके अलावा मुख्यमंत्री ने कई विकास कार्यों का लोकार्पण और भूमिपूजन किया।
राज्य की जनता को गुढी पाडवा की शुभकामनाएं देते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि पिछले २ वर्ष अंधेरे में बीत गए। यह नववर्ष इस अंधकार को दूर कर सुख, समृद्धि और स्वास्थ्य का वर्ष हो। इस सरकार का नाम महाविकास आघाड़ी है। यह गठबंधन जमीन पर रहकर राज्य के विकास का नियोजित कार्य कर रहा है। पिछले दो वर्ष से हम प्रत्यक्ष रूप से कामों में दिखाई नहीं दिए, लेकिन उसके पीछे हमने कई सारे विकास कार्यों की योजना बनाई। उसी के माध्यम से आज पर्यावरण हितैषी नए भवन का भूमिपूजन हो रहा है। जीएसटी भवन का श्रेय उपमुख्यमंत्री अजीत पवार को देते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि इस भवन के लिए अजीत पवार प्रयासरत रहे और सभी लाइसेंस प्राप्त किए। इस नायाब भवन का निर्माण कार्य २०२५ में पूरा होगा। मुख्यमंत्री ने कहा कि जहां अजीत दादा खुद उपस्थित हैं, वहां मेरा प्रत्यक्ष रूप से उपस्थित रहना जरूरी नहीं है। हम सब मिलकर काम कर रहे हैं। हमारी सरकार में कोई मतभेद नहीं है। हम मिलकर काम कर रहे हैं, इसका उदाहरण ये विकास कार्य हैं।
सिर्फ नारियल फोड़ना हमारा काम नहीं
अपरोक्ष रूप से भाजपा पर हमला बोलते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि कई लोग कई बार घोषणा करके नारियल फोड़ते हैं लेकिन उससे केवल नारियल की बिक्री बढ़ जाती है। हमारा ऐसा नहीं है, हम प्रत्यक्ष काम शुरू कर रहे हैं। यह महत्वपूर्ण अंतर है। इन विकास कार्यों को देखने के बाद हमारे बीच कटुता निर्माण करने की कोशिश करनेवालों को निश्चित ही जवाब मिल जाएगा। सरकार गिराने की कोशिश करनेवालों को हमने अपने कार्यों से करारा जवाब दिया है।
अब आ गया है परिश्रम बताने का समय
मुख्यमंत्री ने कहा कि आज हम कई विकास कार्यों का भूमिपूजन और लोकार्पण कर रहे हैं। कानून व्यवस्था को सशक्त बनाने के लिए पुलिस विभाग की कई सुविधाओं का लोकार्पण आज हो रहा है। मराठी अस्मिता का प्रतीक मराठी भाषा भवन का भूमिपूजन और मेट्रो लाइन का उद्घाटन आज हम कर रहे हैं। हम काम कर रहे थे और कर रहे हैं। अब समय आ गया है कि हम जो परिश्रम कर रहे हैं, उसे जोर-शोर से बताएं। महाराष्ट्र को बदनाम करनेवालों को भेदकर विकास कार्यों को लोगों तक पहुंचाने का समय आ गया है।
टैक्स दाताओं को लगे अपना भवन
मुख्यमंत्री ने कहा कि आज जिस भवन का भूमिपूजन हो रहा है, वह इतना सुंदर हो कि लोग इसे देखने आएं। यह देश में जीएसटी विभाग की सबसे सुंदर इमारत होनी चाहिए। सरकारी इमारत होते हुए भी इसे सरकारी भवन नहीं माना जाना चाहिए। इस भवन में आने पर करदाता खुश हो, उसे इस बात की खुशी हो कि वह जो टैक्स दे रहा है, उसका इस्तेमाल राज्य के विकास में हो रहा है। अधिकारियों-कर्मचारियों का प्रशिक्षण महत्वपूर्ण है। कार्य प्रशिक्षण के साथ-साथ जनता के साथ वैâसा व्यवहार किया जाए, इस पर भी ध्यान देना चाहिए। जो व्यक्ति आए, वह मुस्कुराकर वापस जाए। इस दृष्टिकोण से काम किया जाएगा, इसमें कोई संदेह नहीं है।
इस अवसर पर उपमुख्यमंत्री अजीत पवार, उद्योग मंत्री सुभाष देसाई, नगर विकास मंत्री एकनाथ शिंदे, वस्त्रोद्योग मंत्री असलम शेख सहित वरिष्ठ अधिकारी मौजूद थे।

टैक्स संकलन में महाराष्ट्र अव्वल
मुख्यमंत्री ने कहा कि मन के संकल्प को पूरा करने के लिए राज्य की तिजोरी में वित्तीय बल लगता है। जीएसटी राज्य की अर्थव्यवस्था की रीढ़ की हड्डी है। वह मजबूत होनी ही चाहिए। जीएसटी विभाग देश और राज्य का सबसे बड़ा आधार है। टैक्स संकलन में महाराष्ट्र देश का पहले क्रमांक का राज्य है। यह अभिमान की बात है। इसके लिए मैं सभी अधिकारियों-कर्मचारियों को धन्यवाद देता हूं।

अन्य समाचार