मुख्यपृष्ठसमाचारलकड़ी काटने गई और २० लाख की मालकिन बन गई!

लकड़ी काटने गई और २० लाख की मालकिन बन गई!

  • आदिवासी महिला मिनटों में बनी लखपति

सामना संवाददाता / भोपाल

सही कहा गया है कि देनेवाला जब भी देता है छप्पर फाड़ कर देता है। कब किसकी किस्मत चमक उठे कोई नहीं बता सकता। मध्य प्रदेश की एक आदिवासी महिला के साथ कुछ इसी तरह की घटना घटी है। जिसके बाद एक ही रात में वह लखपति बन गई। जंगल में लकड़ी तोड़ने गई महिला को सड़क पर चमकता हीरा मिला।
बता दें कि मध्य प्रदेश के पन्ना जिला के पुरुषोत्तमपुर वॉर्ड नंबर २७ में रहनेवाली गेंदाबाई हर रोज लकड़ी तोड़ने जंगलों में जाती हैं। बुधवार को भी वह हर रोज की तरह लकड़ी तोड़ने जंगल जा ही रही थी कि बीच सड़क पर उन्हें एक चमकता पत्थर मिला। उत्सुकतावश उन्होंने उसे उठा लिया और घर ले जाकर अपने पति को दिखाया। दोनों को यह समझ में नहीं आ रहा था कि आखिर यह है क्या? ऐसे में उन दोनों ने चमकते पत्थर को नजदीक के सरकारी कार्यालय में दिखाया। तब उन्हें पता लगा कि यह कोई आम पत्थर नहीं बल्कि ४.३९ कैरेट का हीरा है। बताया जा रहा है कि इस हीरे की नीलामी के बाद दंपति को तकरीबन २० लाख रुपए मिलने की संभावना है। इस रकम से सरकारी रॉयल्टी और कर घटाकर बाकी बची रकम दंपति को दी जाएगी।
बता दें कि यह आदिवासी दंपति मजदूरी करके अपनी जीविका चलाते हैं। उन्हें चार लड़के और दो लड़कियां हैं। आर्थिक स्थिति अच्छी नहीं होने की वजह से वे बच्चों को शिक्षा भी नहीं दे पा रहे हैं। गेंदाबाई ने बताया कि हीरे से मिलनेवाली रकम से वे अपनी बेटियों की शादी करवाएंगी और कुछ पैसे मकान बनवाने में खर्च करेंगी।

अन्य समाचार