मुख्यपृष्ठनए समाचारक्या झाड़ियां ... क्या ईडी...जमकर चले सदन में शब्दों के बाण

क्या झाड़ियां … क्या ईडी…जमकर चले सदन में शब्दों के बाण

  • बागी विधायकों पर कसा तंज

सामना संवाददाता / मुंबई
विधानसभा के अध्यक्ष पद का चुनाव कल ध्वनि मत से हुआ। सदन में जब एक-एक विधायक के मतों की गिनती चल रही थी, तब गणना के अनुसार मतों का उच्चारण, बागी विधायकों पर कसे गए तंज, क्या झाड़ियां…क्या पहाड़… और कांग्रेस विधायकों द्वारा अप्रत्यक्ष रूप से किए गए कटाक्ष से गंभीर वातावरण में भी सदन में हंसी के फव्वारे छूट रहे थे। बागी विधायकों पर जमकर शब्दों के बाण से निशाना साधा गया। इस दौरान बागी विधायकों के चेहरे पर ग्लानि के भाव साफ नजर आ रहे थे।
विधानसभा अध्यक्ष पद के लिए चुनाव के समय हर विधायक सदन में खड़े होकर अपना नाम और नंबर बताकर वोट दे रहे थे। पहले सत्तारूढ़ दल से राहुल नार्वेकर के लिए वोटिंग शुरू हुई। जिसकी शुरुआत मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे ने नंबर एक से की। उसके बाद उपमुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने नंबर दो का वोट दिया। इसके बाद क्रमवार विधायकों ने वोटिंग की। गलत नंबर बोलकर भाजपा विधायक गोवर्धन शर्मा ने असमंजस की स्थिति पैदा कर दी। सत्तारूढ़ भाजपा के विधायक दबाव में थे, इसलिए भ्रमित होकर अंकों का गलत उच्चारण कर रहे थे। संगोला के विधायक शहाजी पाटील अपने बयान ‘क्या झाड़ियां.. क्या पहाड़..’ को लेकर सुर्खियों में हैं। जब वे वोट देने के लिए खड़े हुए तो ‘क्या झाड़ी, क्या पहाड़’ का शब्द गूंजा और पूरे सदन में हंसी फूट पड़ी। शिवसेना की बागी विधायक यामिनी जाधव जब वोट देने खड़ी हुर्इं तो शिवसेना, कांग्रेस और राकांपा विधायकों ने ‘ईडी ईडी’ का नारा लगाया। भाजपा विधायक राहुल नार्वेकर को वोट देते हुए शिवसेना के बागी विधायकों के चेहरे पर ग्लानि के भाव साफ नजर आ रहे थे। महाविकास आघाड़ी के प्रत्याशी राजन सालवी के पक्ष में वोट डालने बालासाहेब आजबे खड़े हुए और उन्होंने १०० नंबर का उच्चारण किया तो सभी ने तालियां बजार्इं। सूरत और गुवाहाटी से शिंदे गुट का साथ छोड़कर भाग निकले शिवसेना विधायक नितिन देशमुख और वैâलास पाटील ने सालवी को वोट डाला।
कैसे-कैसे , ऐसे-वैसे हो गए
वोट डालने से पहले कांग्रेस विधायक कैलाश गोरंटयाला ने भाजपा और बागी विधायकों पर निशाना साधते हुए कहा, ‘ऐसे-वैसे, कैसे-कैसे हो गए… और कैसे-कैसे, ऐसे-वैसे हो गए’
पचास खोखे, एकदम ओके
विधायक कैलाश गोरंटयाला ने सदन के बाहर मीडिया से बातचीत करते हुए सदन में कही गई पंक्तियां फिर से सुनाई। उन्होंने बागी विधायकों पर कटाक्ष करते हुए कहा कि ‘क्या झाड़ियां…क्या पहाड़…क्या होटल… एकदम ओके… पचास खोखे पक्के’…

 

अन्य समाचार