मुख्यपृष्ठनए समाचारठाणे के पेड़ों को ये क्या हुआ है? ... ९० दिन में गिरे...

ठाणे के पेड़ों को ये क्या हुआ है? … ९० दिन में गिरे ६१७ पेड़ और शाखाएं   

•  ९२ वाहन हुए क्षतिग्रस्त
सामना संवाददाता / ठाणे
ठाणे एक ऐसा शहर है, जहां चाहे गर्मी हो या बरसात या फिर सर्दी का मौसम, कहां कौन सा पेड़ या पेड़ की टहनी गिर जाए यह कहना संभव नहीं है। मिली जानकारी के अनुसार, पिछले ९० दिनों में ठाणे मनपा की सीमा में ३०१ पेड़ गिरे हैं और ३१६ पेड़ों की शाखाएं टूटकर गिरी हैं। इसमें ५८ चार पहिया वाहनों सहित ९२ कारें क्षतिग्रस्त हो गई हैं। इन घटनाओं के बाद सवाल उठने लगा है कि ठाणे शहर के पेड़ों को ये क्या हुआ है?
बता दें कि इस साल हर जगह बारिश देर से हुई, लेकिन इस मानसून के मौसम में ठाणे शहर में पेड़ और उसकी शाखाओं के टूटने के मामले अधिक देखे गए हैं। पिछले ९० दिनों में पेड़ और इसकी शाखाओं के टूटने की ६१७ घटनाएं हो चुकी हैं। जुलाई महीने में १४५ पेड़ और १४० शाखाएं टूट गर्इं और उन घटनाओं में ५० से अधिक वाहनों को आर्थिक क्षति हुई। इसमें ३० चार पहिया, १३ दोपहिया और ७ तिपहिया वाहन शामिल हैं। मनपा आयुक्त बार-बार पेड़ों की शाखाएं काटने के निर्देश दे रहे हैं, लेकिन क्या इन घटनाओं को देखते हुए कमिश्नर के सुझावों को संबंधित विभाग आत्मसात करता है? यह जांच का विषय है। वैसे भी अगस्त महीने में भले ही भारी बारिश नहीं हुई हो, लेकिन इस महीने में २७ पेड़ और ३८ पेड़ों की शाखाएं टूट चुकी हैं। इन घटनाओं के कारण वाहन चालकों को यह सवाल परेशान कर रहा है कि अपनी कार कहां पार्विंâग करें।
 प्रतिदिन एक कार हो रही  है क्षतिग्रस्त
ठाणे नगर निगम क्षेत्र में पेड़ों की शाखाएं गिरने की घटनाओं में ९२ वाहनों को आर्थिक नुकसान हुआ है। चूंकि ये घटनाएं ९० दिनों में हुर्इं, औसतन प्रतिदिन एक कार क्षतिग्रस्त हुई है, ऐसा आंकड़े बता रहे हैं। इसलिए कहा जा रहा है कि वाहन चालकों को अपनी कार पार्क करते समय सावधानी बरतनी चाहिए।

 

 

अन्य समाचार

लालमलाल!